पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 7 जून 2017

691.. जिन्दा नज़र आना भी जरूरी है’.

आप सभी पाठक गण का ह्रदय से नंदन अभिनंदन करती हूँ...

जिन्दा गर हो तुम तो
    जिन्दा नज़र आना भी जरूरी है..
और नज़र आने के लिए
इन तहरीरों पर निगाह डाल कर 
अपने विचारों से अवगत जरूर कराएँ..
तो चलते हैं...

आज की सर्वश्रेष्ठ लिंक की ओर...

अंदाज़े गाफ़िल़ से खूबसूरत गज़ल


हैं नहीं कम ज़िन्दगी में पेचो ख़म
आप भी थोड़ा बहुत उलझाइए

तारी हो उल्फ़त का अब कुछ यूँ सुरूर
ख़ुद बहकिए मुझको भी बहकाइए

(प्रथम प्रस्तुती रविवार लिंक 688 )


संजना को रजत का आत्मसंयम व शालीन व्यवहार बहुत
 प्रभावित करता था। वह अपने गीतों और कविताओं को
 संजना को सुनाता। कुछ गीतों में छिपे संदेश को समझकर
 संजना की नजरें झुक जाती।


जब में नौकरी में थी और मुझे विश्वविद्यालय की एक मीटिंग में फेकल्टी सदस्य के
जिन्दगी से रू-ब-रू कराती  रचना

वो रिश्ते भार ही होते हैं
क्षण-भंगुर से इस जीवन सा हम
आओ हर पल को जी लें
और पाचवी कड़ी में असमानी, न न न आसमानी बादलों से..


न जानू फिज़ाओ की आगोश की बातें..
ख्वाहिशों की मुरादो को पूरा करना पड़ेगा
इस नव,नवीन नवीसी प्रस्तुति और नवाज
के साथ आप सभी  के नवोद्भावनाओं की आकांक्षी।
।। इति ।।
धन्यवाद !
पम्मी सिंह


16 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    वाह....बहुत अच्छी रचनाओं का चयन
    आभार.....सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात ! आज की प्रस्तुति लेकर आयी है सृजन के विविध रंग-रूप। उम्दा लिंक संकलन के लिए बधाई पम्मी जी। सभी चयनित रचनानकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. कृपया रचनानकारों को रचनाकरों पढ़ें। धन्यवाद।

      हटाएं
  3. शुभ प्रभात
    बहुत ही उम्दा संकलन है

    उत्तर देंहटाएं
  4. "पाँच लिंकों का आनंद " में चर्चाकार बनने पर पम्मी जी को बधाई एवं स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़ियाँ
    असीम शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. ‘जिन्दा गर हो तुम तो
    जिन्दा नज़र आना भी जरूरी है’..

    आदरणीय, शुभप्रभात
    सुन्दर लिंक संयोजन
    उम्दा प्रस्तुति, के लिए
    ''पम्मी जी'' को ढेरों
    शुभकामनायें, आभार।
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुभप्रभात....
    स्वागत है आप का....
    ....पांच लिंकों का आनंद पर....
    सुंदर लिंक संकलन....
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी के स्नेह, अवसर और टिप्पणी के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर चयन. यशोदा जी,

    एक नम्र निवेदन.

    रचना के साथ शीर्षक जरूर दें.
    अयंगर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छे लिंक्स हैं,मुझे तो पंचपकवानों का आनंद मिल जाता है पाँच लिंकों पर ! बचपन से किताबी कीड़ा जो कहलाती रही ! आज की प्रस्तुति के लिए बधाई पम्मी जी

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...