पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 22 अगस्त 2016

402..सच कभी अपने झूठ नहीं कहता है

शुभ प्रभात..
सादर अभिवादन स्वीकारें
उपस्थित हूँ आज की पसंदीदा रचनाओं के साथ..


कमर झुक -झुक कर
धरती से बतियाने लगी
कुछ ‘अपनें’ लोगो नें
‘अपनें समाज’ से निकाल दिया
घर की किसी कोठरी में
टूटी कुर्सी की तरह
डाल दिया !

मर्यादित रहना सदा हो सीमा का भान
बाधाएँ आती डरे रक्षित निज सम्मान
ओलम्पिक की रेस हो या जीवन का झोल
ले चुग्गा विश्वास से बिटिया री मुँह खोल

झूला झूलती
है बहिनभैया की 
है तीज आज |


बेटियाँ....डॉ. पूर्णिमा राय
आज खुद की कमी भाँपती बेटियाँ;
आसमाँ की ज़मीं नापती बेटियाँ।।

दुश्मनों को हराकर सदा खेल में;
मुस्कुराहट से' दिल जीतती बेटियाँ।।



बचपन जाने कहाँ गया  !
कस के मुट्ठी बाँधी फिर भी, रेत फिसलती जाती है !
इतनी जल्दी क्या सूरज को ? 
रोज शाम गहराती है !


लो बूटी और बेस हमारे गीतों में शामिल हो गए... कुलवन्त हैप्पी
बूटी का हिन्‍दीकरण पिछवाड़ा हालांकि उर्दूकरण थोड़ा सा सलीके वाला है, तरशीफ। इस गीत में जैकलीन फर्नांडीज ने जमकर बूटी थिरकाई है। जैकलीन फर्नांडीज श्रीलंकाई हैं। आप जैकलीन फर्नांडीज के जितने गाने देखेंगे, आपको बूटी के सिवाय शायद ही कोई अन्‍य मूवमेंट नजर आए।

और अंत में
एक साल पहले.. और आज का शीर्षक



सोच कर देख .....सुशील कुमार जोशी   
‘उलूक’ किसी दिन 
दुनियाँ दिखाती है 
बहुत कुछ दिखाती है 
उसमें कितना कुछ 
बहुत कुछ होता है 
कितना कुछ कुछ 
भी नहीं होता है 
जो कुछ भी कहीं 
भी नहीं देखता है 
जो कुछ भी कभी 
भी नहीं सोचता है 
....
आज्ञा दें यशोदा को
सादर






6 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. ढ़ेरों आशीष व अशेष शुभकामनाओं संग शुभप्रभात छोटी बहना
    उम्दा प्रस्तुतिकरण

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका प्रयास बेहद सराहनीय है। लिंकों के साथ साथ आप अपनी भी एक पोस्‍ट लिखकर डाला करें, शुरूआत में, संक्षेप में ही सही।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ संध्या कुलवन्त भाई
      है न मेरा ब्लाग भी शामिल
      इस जगह
      उपस्थित हूँ आज की पसंदीदा रचनाओं के साथ..
      सादर

      हटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी । 'उलूक' का आभार सूत्र को शीर्षक देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचनाएं ..नमन सहित आभार..यशोदा जी.आपने मेरी रचना को यहाँ स्थान दिया...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...