पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 15 अगस्त 2016

395..भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं

भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर
आप सभी का हार्दिक अभिनन्दन करती हूँ
शुभकामनाएँ व सादर अभिवादन स्वीकार करें

प्रस्तुत कर रही हूँ आज की पसंदीदा रचनाएँ...


``सखि वे मुझसे कह कर जाते,
तो क्या वे मुझको अपनी पथ बाधा ही पाते।
नयन उन्हें हैं निष्ठुर कहते
पर इनसे जो आँसू बहते
सदय हृदय वे कैसे सहते?


जब से सीखा है
मैनें जीना 
बंद दरवाजों 
के भीतर 
तब महसूस किया
कि ये तो 
बतियाती हैं
घंटों मुझसे


दूसरों की गुलामी के निवाले से हृष्ट-पुष्ट हो जाने से,
स्वतंत्रता के साथ दुर्बल बने रहना भला ।
झूठ-फरेब, भ्रष्टाचार, दुराचार-अनाचार भरी शान से
गरीब रहकर घर की रुखी-सूखी खाकर जीना भला ।।



नियति...उपासना सियाग
कोमल दोनों की आवाजों में अंतर को सुन और पहचान रही थी। बाहर वाले तोते से पिंजरे वाले तोते की आवाज़ कितनी कर्कश थी। परतन्त्रता की एक पीड़ा भी झलक रही थी। आराम कुर्सी पर झूलती हुई कोमल सोच रही थी कि तोते और उसके जीवन में कितना साम्य है। दोनों ही पिंजरे में है।




कोई तो पल
दे दो सुशासन का
खुश हो प्रजा ! 

आज की प्रथम कड़ी..
सपने देख 
मशालें देख 
गाँव देख 
लोग देख
गा सके 
तो गा 
नहीं गा सके 
तो चिल्ला 
क्राँति गीत 
कहीं भी 
किसी भी 
गिरोह में 
जा और देख 



आज बस इतना ही..
आज्ञा दीजिए यशोदा को


चलते-चलते एक देशगान सुनिए
साधना दीदी का पसंदीदा देशगान















                   








9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजादी की बधाई । सुन्दर गीत के साथ एक सुन्दर प्रस्तुति । आभार 'उलूक' का सूत्र ''उलूक’ पहले अपना खुद का नामरद होना छिपाना सीख' को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर संयोजन..
    स्वतंत्रता दिवस की शुभतामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज सच में अच्छा महसूस कर रही हूँ
    ख्यातिप्राप्त कवियों की रचनाएं पढ़कर
    विशेष डॉ. सुशील जोशी से प्रभावित हुई
    ज्वलंत समस्याओं को व्यंग्य के माध्यम से उजागर करते है वे

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut sundar prastuti. Sabhi pathakon ko Swadeenta Divas ki hardik shubhkamnaye. Aaj mere rachna Mili Azadi evam meri pasand ke geet ko sammilit karane ke liye hriday se apka abhar Yashoda ji.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी पाठकों को स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत -बहुत आभारी हूँ । सभी रचनाएँ एक से बढकर एक ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक और विचारणीय लिंक बैन ... आपको स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...