पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2015

तस्वीर से निकले एहसास ....... अंक 89

आप सभी को संजय भास्कर का नमस्कार
पांच लिंकों का आनन्द ब्लॉग पर आज मेरी पहली प्रस्तुति है इस के लिये आदरणीय यशोदा दीदी व समस्त पांच लिंकों का आनन्द परिवार का आभारी हूँ  जिन्होंने मुझे इस ब्लॉग से जुड़ने का अवसर दिया मेरा ये प्रयास रहेगा आप सभी के लिये बढ़िया प्रस्तुति करूं
आज मेरा ब्लॉग पर मेरी प्रथम प्रस्तुति है उम्मीद है सभी पसंद आये.....!!


तस्वीर से निकले एहसास :)
अपने थे
देना था  -
कुछ वक़्त, कुछ ख्याल 
लेकिन,
इस देने में मैं रह गया खाली 
हँसी भी गूँजती है खाली कमरे सी !
मैंने सबको बहुत करीब से देखा 

दाढ़ी बढ़ा लेने पर सभी साधु नहीं बन जाते हैं :)
गुलाब को कुछ भी नाम दो उससे उतनी ही सुगंध आयेगी।
शक्कर सफेद हो या भूरी उसमें उतनी ही मिठास रहेगी।।

कभी चित्रित फूलों से सुगंध नहीं आती है।
हर चमकदार वस्तु स्वर्ण नहीं होती है।।

किसी और की खुशी में :)
खुशियों को जब भी देखा मैने 
नये परिधान में 
सोचा ज़रूर ये आज 
किसी की हो जाने के लिये
 तैयार हुई हैं!

हिंदुस्तान की राजधानी :)
हुज़ूर 
कहाँ है हिन्दुस्तान की राजधानी !

क्या कहा दिल्ली !
वही दिल्ली जहाँ देश भर से बिजली काट काट कर 
पहुचाई जाती है रौशनी 

ज़िन्दगी यूँ ही बसर होती रहे :)
ज़िंदगी उनकी नजर होती रहे
खूबसूरत ये डगर होती रहे

सादगी इतनी है तेरे रूप में
बंदगी आठों पहर होती रहे !

धन्यवाद
संजय भास्कर  

15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई संजय

    आप जैसे सिद्धहस्त को पाकर
    अपने को धन्य मानती हूूँ
    अच्छी पसंद है आपकी...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात....
    भाई संजय जी आनंद पर आप को देखकर हमारे साथ-साथ हमारे पाठक भी आनंदित हैं....
    आज आनंद का सफर अपने 89 अंक का सफर पूरा करते हुए पांच चर्चाकारों के साथ 44 समर्थकों के अथक प्रयासों से 23,921
    बार देखा गया...
    उमीद है... ये सफर हमेशा चलता रहेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Shukriya Sanjay ji mujhe link karne ka .... Sabhi link kamaal ke hain ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए मूल्यवान है आपके पधारने का बहुत- बहुत शुक्रिया :)

      हटाएं
  4. भैया संजय!बहुत अच्छी लगी पहली हलचल प्रस्तुति और इसमें मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए मूल्यवान है आपके पधारने का बहुत- बहुत शुक्रिया :)

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए मूल्यवान है आपके पधारने का बहुत- बहुत शुक्रिया :)

      हटाएं
  6. पुतर जी स्वागत है
    अपने का साथ हो तो पथ आसान हो जाता है
    स्नेहाशीष हर पल का हर दिन का

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए मूल्यवान है आपके पधारने का बहुत- बहुत शुक्रिया :)

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए मूल्यवान है आपके पधारने का बहुत- बहुत शुक्रिया :)

      हटाएं
  8. बहुत खूब
    प्रथम प्रस्तुति पर शुभकामनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...