निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 13 दिसंबर 2020

1976 ...ज़िंदगी चल तो रही है पर, पहले जैसी नहीं...

 जोर की बारिश
और बर्फबारी
हिमांचल प्रदेश में


बिजली भी गुल
हार गए हिम्मत
भाई कुलदीप जी
फोन कर दिया....
जल्द फोन किया भाई ने...



चलिए रचनाओं की ओर...

पहले जैसा ...श्वेता सिन्हा


बचपन,यौवन,प्रौढ़,बुढ़ापा

तन के साथ-साथ

मन की भावनाओं का आलोड़न

महसूस तो होता है,

पर स्मृतियों में कैद पल

भींच लेते हैं सम्मोहन में

फिर, उलझा मन लौटता है  

स्मृतियों के परों से वापस

असंतोष वर्तमान का

कानों में फुसफुसाता है


हिमालय पर वर्ण पिरामिड ..कुसुम कोठारी


हूँ

मैं, भी

बहती

अनुधारा

अविभाज्य सी

उन्नतशील का

बहता अनुराग।



तमाशबीन ...जिज्ञासा सिंह



पास की झुग्गी में बहुत ज़ोर शोरशराबा हुआ 

वो दिखा दांत पीसता हुआ

जबड़े कसे ऐसे,  जैसे चबा जाएगा

खा जाएगा

उसे कच्चा ही 

इतना समझा ही 

था कि वह भौंकने लगा 

कुत्ते की तरह नोचने लगा 


 "पहले मैं ही जाऊंगी" ... रीना झा शर्मा 


सुनो, इस आंगन में,

तुम ही लेकर आए थे..

इस आंगन से,

तुम ही लेकर जाना....

साथ निभाया तो, है अब तक तुमने...

अंत तक तुम ही साथ निभाना...


तुम कैसी हो कुछ हाल कहो ..अमित 'केवल'


कुछ मेरी भी सुनती जाओ

और कुछ अपने सवाल कहो


अब मिले हो कितने सालों बाद

कैसे गुज़रे ये साल कहो


मेरे भी दिल की कुछ सुन लो

कुछ अपने भी हालात कहो


चलते -चलते..

किसी के समझ में नहीं आता



समझ में 

आने तक बहुत देर हो जाना

गली का 

व्यक्तित्व में ही शामिल हो जाना 


गली का गली में जम जाना 


उस दिन का इंतजार 

कयामत का इंतजार हो जाना 

पता चले जिस दिन 


छोड़ दिया है

तूने भी 'उलूक'

अब 

उस गली से  आना जाना ।

....
बस
सादर

8 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार तुरत-फुरत अंक..
    आभार..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सराहनीय प्रस्तुतीकरण
    श्रमसाध्य कार्य हेतु साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  3. दिग्विजय जी नमस्कार! सुन्दर संयोजन, प्रशंसनीय प्रस्तुति के लिए आप का बहुत बहुत आभार..मेरी रचना को शामिल करने के लिए आपको मेरा नमन और वंदन..सादर..।

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहद सुंदर रचना प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति,सभी लिंक मनोहर ।

    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत-बहुत आभार दी।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...