निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 26 दिसंबर 2020

1989...अमलताश

अमेरिका में थैंक गिविंग से न्यू ईयर तक हॉलीडे

चलिए इस साल मैं भी छुट्टी पर चलती हूँ.. सब ठीक रहा तो अगले साल मिलेंगे.... 

जो जितना तप जाता है ।

वो स्वर्ण चमक पाता है ।

सच्चाई परखना हो तो निरखना

अमलताश

थर –थर कंपाती शीत लहरी हो,

आंधी हो या झंझावत का प्रबल आघात,

मैं सब सहता रहा चुपचाप,

मैं रहा दृढ और स्थिर चित्त,

मुझे पता था ये सब मेरे जीवन

में आने वाली बहार को छीन नहीं पायेंगे,

 मैं और तुम या हम

शब्दों का झंझावात है क्या उलझना

मुझे बन्धनों में ना बांधों

ये मेरा अन्तिम जन्म ही भला

पर अपने अगले 6 जन्मों तक

मुझे याद जरूर रखना

मैं कहती हूँ याद रखोगे ना?

 ||ऐसा करो ||

तुम ही नहीं 

ऐसे और भी 

कुछ समय तक रहे 

मेरे प्रेम में 

और भी आये कुछ दिनों के लिए 

अपनेपन का उपहार लेकर 

अंतर्मन गहराई में

वो भी चाहता है...

कि कभी कोई उसके लिये भी,

वक्त निकाले

उसे सुने और समझे,

मन की बात करते तो सब हैं...

पर इसे आज सुनता कौन है?

झंझावात

रत्न जडित स्वर्ण सिंहासन ,

मुक्ता मणियों के उर हार !

शीश मुकुट बहु बेशकीमती ,

सब हो गए हैं क्षार क्षार !

दुनियां वालो देखो नाटक ,

नियति नटी के नर्तन का !

><><><><><

पुन: भेंट होगी...

><><><><><

7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी..
    सादर नमन..
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  2. हमेशा की तरह सराहनीय संकलन दी।
    सभी रचनाएँ बहुत अच्छी हैं।
    सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  3. आने वाले समय में भी लिंक्स यूं ही खुशगवार रहें

    जवाब देंहटाएं
  4. सभी रचनाकारों को को सुप्रभात तथा सुंदर प्रस्तुति के लिए बहुत आभार आदरणीया

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...