निवेदन।


फ़ॉलोअर

सोमवार, 28 सितंबर 2020

1900 कुत्ते का आदमी वफादार होता है ।

 संसार में पागलो की श्रेणी में
हम पहले नम्बर पर हैं
दो मत नहीं....
जाएंगे रांची किसी दिन
वहाँ भोजन तो घर का मिलेगा

पसंदीदा रचनाएँ कुछ यूँ है....

या अल्लाह ! 

कोरोना के कहर से बचा अल्लाह

अज़ान के आखिर में एक दुआ हमेशा सुनाई देती है।  

" या अल्लाह ! कोरोना के कहर से बचा अल्लाह, 

सब पर अपना करम बरसा अल्लाह "  

नमाज़ अदा  करने के  बाद मौलवी  

मोहल्ले की गालियों में निकल जाता 

और बिना मास्क पहने हर किसी को 

मास्क पहनने को कहता।  

ये रोज़ की दिनचर्या है उसकी।



ऐ ज़िंदगी ...

कल बहुत देर तलक सोचती रही

फिर सोचा बात कर ही लूं  

फिर मैंने ज़िंदगी को फ़ोन लगाया 

मैंने कहा आओ बैठो किसी दिन 

दो चार बातें करते हैं 

एक एक कप गर्म चाय की प्याली

एक दूसरे को सर्व करते हैं 


आस ....

कब तक कोई आस लगाये ,

अपना आकुल मन बहलाए |

घर सूना है , आंगन सूना ,

जीवन का वृन्दावन सूना |

सुधियों की राधिका हठीली ,

और कर रही दुःख को दूना |


उत्तरायण का इंतज़ार - -

धुंधभरे जिल्द की किताब को रख दो

कहीं कांच की अलमारी में बंद,

जीवन की वास्तविकता

ग़र जानना हो

तो मिलो

उस

अंधकार गली के किसी मोड़ पर जहाँ

शैशव एक ही रात में पहुँच जाता


हमारे सुशील भैय्या का
उलूक टाइम्स
बारह वर्ष का हो गया
प्रस्तुत है उनकी पहली प्रस्तुति

परिचय

बतायें

कुत्ता हिन्दू

नहीं होता है

कुत्ता मुस्लिम

नहीं होता है

कुत्ता क्षत्रिय

नहीं होता है

कुत्ता ब्राह्मिन

नहीं होता है

और तो और

कुत्ते का

रिसरवेशन

नहीं होता है

काश !

कुत्ता होता मैं

और

मुहावरा होता

कुत्ते का आदमी

वफादार होता है ।

उनको ढेर सारी शुभकामनाएँ
सादर



5 टिप्‍पणियां:

  1. सस्नेहाशीष व शुभकामनाओं के संग साधुवाद छोटी बहना
    सराहनीय प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  2. मुहावरा होता

    कुत्ते का आदमी

    वफादार होता है ।
    वाह्य!!!

    जवाब देंहटाएं
  3. हार्दिक आभार, सुन्दर प्रस्तुति एवं संकलन, असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बहुत शुक्रिया आपका मेरी रचना को पाँच लिंको का आंनद में स्थान देने पर, बहुत सुंदर संकलन ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...