निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 27 सितंबर 2020

1899 ...सहारा ना मिला तो ना सही , उठ बैठे हम

नमस्कार..
भाई कुलदीप जी आज
नहीं है...सुबह बात हुई उनसे
वो सामान्य हैं....
हमारी पसंद कुछ यूँ है....

सहारा ना मिला तो ना सही , उठ बैठे हम 
घाव रिसते रहें, ना पा सके कोई मलहम
जमाना ये न समझे, हम गिरे भी राहों में
होंठ भींचे, मुस्कराये पी गये झट सारे गम

सुनो, महामारी के दौर में 
ख़ुद से ज़रा बाहर निकल जाना,
थोड़ी दूर रहकर 
ध्यान से देखना
कि क्या कुछ बचा है तुममें,


मेरी बेटी मन मोहनी
बहुत प्यारी  सबकी  दुलारी
मुझे बहुत भाग्य से मिली है
उस जैसा कोई गुणी नहीं है |


चौराहों  की रौनक छीन ली गई 
गलियों को उनकी हैसियत बताई गई 
पत्त्थर पर पैर पल-पल जीवन को 
मारने के लिए मजबूर किया गया 
सफ़ेद चील ने तजुर्बे के कान छिदवाए 
संस्कार कह रस्मों की माला पहनाई गई।



रक्तिम हुई क्षितिज सिंदूरी
आज साँझ ने माँग सजाई
तन-मन श्वेत वसन में लिपटे 
रंग देख कर आए रूलाई
रून-झुन,लक-दक फिरती 'वो',
ब्याहता अब 'विधवा' कहलाई

आज भी .
आज भी सूर्यांश की ऊष्मा  ने 
अभिनव मन  के कपाट खोले  ,
देकर ओजस्विता
किरणें चहुँ दिस  ,
रस अमृत घोलें  ..!!
आज भी चढ़ती धूप  सुनहरी ,
भेद जिया के खोले ,
....
आज बस..
कल की कल
सादर

9 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तम रचनाएँ..
    आभार..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर संकलन. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  3. धन्यवाद आज के संकलन में मेरी रचना शामिल करने के लिए |

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति।मेरे सृजन को स्थान देने हेतु सादर आभार आदरणीय सर।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बहुत आभारी हूँ सर,
    मेरी पुरानी रचना को स्नेह और मान दिया आपने।

    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति सभी लिंक्स बेहद उम्दा..
    मेरी रचना की पंक्ति को प्रस्तुति में शीर्षक में लेने एवं रचना को मंच पर स्थान देने हेतु तहेदिल से धन्यवाद एवं आभार।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत अच्छा संकलन हैं | सभी रचनाएँ सराहनीय हैं |

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...