निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 6 जनवरी 2018

904... हसरतें



सारी तस्वीरें गूगल से ली गई हैं... अब चोरी समझें या प्रचार ... आपकी सोच




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
गलतफहमी कि संतुष्टि थी
जबकि
कुछ पूरी करनी अभी बाकी है


ठंडी बहती हवाओ में
दूर तक फैले झील में
दुधिया चांदनी रात में
नाव कि सैर अभी बाकी है


हसरतें ही तो हैं जो, जीने को करती हैं मजबूर,,
जिन्दगी की ठोकरें ,वरना कर देती चकनाचूर ।।



बड़े अरमान से सजाया था
वो जो टुटा सपना
अब किसके पास जाऊँगा
लेकर अरमां अपना-


Related image

हसरतें


रेशमी कपड़ो में
सज धज कर निकलती है
लोगों की आँखे चुधियाँ जाती है
भगवान तू भी तो
फरियाद उनकी ही सुनता है





हसरतें

निगाहें चौंक उठती है अक्सर
अपना ही अक्स देखकर
कुछ अंजान सा दिखता अब
ख़ुद का ही वजूद ख़ुदको
जिससे पहचान थी कभी
वो कहीं खो सा गया


हसरतें


Image result for हसरते


मन की बात

बहुत जतन से
संभाल रही हूँ हालात को...
मुट्ठी भर रेत-सी
रह गई है साँसे हाथ में
और आँखों से गिरते अविरल आंसू
भीगो रहे है सासों की मिट्टी को।
कि....नहीं कर पाऊँगी कभी
खुद से अलग उसे

मिलते रहेंगे...




10 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीया विभा दी,
    सुप्रभातम्।
    आज का संकलन में बहुत सुंदर तैयार हुआ है।सारी रचनाएँ बहुत अच्छी लगी। दी तस्वीर में भी सुंदर पंक्तियाँ लिखीं है। बहुत आभार आपका दी:) इथनी अच्छी रचनाएँ पढ़वाने के लिए।

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    हसरत तो थी की
    पर वो हसरत ही रह गई
    बढ़िया प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर
    सभी रचनायें और रचनाकार को शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  4. आज की संकलन की खासियत (एक शब्द विशेष) ही अलग है जो बहुत बढिया
    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ..

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुतिकरण.उम्दा लिंक्स....

    जवाब देंहटाएं
  8. हसरतों पर आधारित रचनाओं से सुसज्जित ख़ूबसूरत प्रस्तुति।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...