समर्थक

शुक्रवार, 26 जनवरी 2018

924...सरकारी आयोजन मात्र नहीं, है ये राष्ट्रीय त्योहार

"गणतंत्र का मतलब हमारा संविधान,
हमारी सरकार हमारे अधिकार और हमारे कर्तव्य"

भारत का संविधान, भारत का सर्वोच्च विधान है 
जो संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर 1949 को पारित हुआ 
तथा 26 जनवरी 1950 से प्रभावी हुआ वो लिखित दस्तावेज़ है 
जिसमें हर एक आम और ख़ास के अधिकार और कर्तव्य अंकित है।

 हम सब  अपने अधिकारों के प्रति इतने सजग होते है 
कि आक्रोश व्यक्त करने के लिए अपनी राष्ट्रीय संपत्ति का 
सबसे पहले नुकसान करते हैं।
कभी सोचियेगा अपने कर्तव्यों प्रति हम कितने सजग है?
 सार्वजनिक स्थलों पर लिखे नियम पढ़ते तो सभी है पर 
इन नियमों का पालन हम में से कितने लोग करते हैं?
 सार्वजनिक स्थलों पर नागरिकों द्वारा किये गये  आचरण और 
व्यवहार तय करते है कि किसी भी देश के नागरिक 
कितने सभ्य और सुसंस्कृत हैं। 
हर नागरिक अगर अपना सिर्फ़ एक कर्तव्य सुनिश्चित कर ले 
तो इससे बढ़कर देशभक्ति और कुछ नहीं होगी।

अब चलिए आज की रचनाएँ पढ़ते है......

आदरणीय पुरुषोत्तम जी

उठो देश!
देखो ये उन्मुक्त मन,
आकर खड़ा हो सरहदों पे जैसे,
लेकिन कल्पना के चादर,
आरपार सरहदों के फैलाए तो कैसे,
रोक रही हैं राहें 
ये बेमेल सी विचारधाराएं,
भावप्रवणता हैं विवश,
◆◆◆◆◆◆
आदरणीया कविता रावत जी

अपने धार्मिक स्थलों मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा आदि में 
देश की एकता, सुख-समृद्धि और सुरक्षा के लिए प्रार्थना करें। 
मातृ-भूमि के लिए हंसते-हंसते अपने प्राण न्यौछावार कर 
देने वाले अमर वीर सपूतों को सारे भेदभाव भुलाकर एक 
विशाल कुटुम्ब के सदस्य बनकर याद करें।
◆◆◆◆◆◆◆◆◆
आदरणीया रेणुबाला जी

जिन्होंने  वारे  लाल   वतन  पे  -
नमन  करो   उन  माँओं   को ,
जिनके  मिटे सुहाग  देश - हित- 
शीश  झुकाओं  उन  ललनाओं को !!!!!!!!!!
◆◆◆◆◆◆◆◆◆
आदरणीय सुरेश स्वप्निल जी
बाज़ को आस्मां  मिला  जबसे
ख़ौफ़  में   अंदलीब    रहते  हैं

शाह कुछ अहमियत नहीं  देते
किस वहम में  अदीब  रहते हैं
◆◆◆◆◆◆◆◆
आदरणीया पूनम जी
ये समापन काल इस युग का
फैल रही हर जगह व्याधि
क्षत-विक्षत मानवता की कार्यपद्धति,
ले रहा कलयुग  समाधि ।
ले रहा कलयुग समाधि ।।
◆◆◆◆◆◆
आदरणीया डॉ.शरद सिंह
चार क़िताबें पढ़ कर दुनिया को पढ़ पाना मुश्क़िल है।
हर अनजाने को आगे बढ़, गले लगाना मुश्क़िल है।
◆◆◆◆◆◆
आदरणीय अरुण साथी जी


करणी सेना हो या मोहम्मदी सेना। देश को अपने कुकृत्य से बदनाम कर रहे है। देश कभी माफ नहीं करेगा। आज सेकुलर होना गाली बताया जा रहा फिर कट्टरपंथी होना क्या है..आप सोंचिये..!
◆◆◆◆◆◆◆
और चलते-चलते प्रसिद्ध पंक्तियाँ आप भी गुनगुनाइये
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलसिताँ हमारा

ग़ुर्बत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी दिल हो जहाँ हमारा
◆◆◆◆◆◆◆
एक क़दम आप.....एक क़दम हम
बन जाएँ हम-क़दम का तीसरा क़दम 
इस सप्ताह का विषय
एक चित्र है...
इस चित्र को देखकर एक रचना लिखिए
उदाहरणः
हो रहे
पात पीत
सिकुड़ी सी
रात रीत
ठिठुरन भी
गई बीत
गा रहे सब
बसंत गीत
भरी है
मादकता
तन-मन-उपवन में
समय होता
यहीं व्यतीत
बौराया मन
बौरा गया तन
और बौराई
टेसू-पलाश
गीत-गात में
भर गई प्रीत

-मन की उपज

...........................
यह चित्र देखकर आप पच्चीस विषयों में रचना लिखसकते हैंः
मसलनः तितली, फूल, मकरंद,पराग, मौसम, पत्ते, डाल, रंग
इत्यादि इत्यादि
आप अपनी रचनाऐं शनिवार (27  जनवरी 2018 ) 
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी श्रेष्ठ रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक (29 जनवरी 2018 ) में प्रकाशित होंगीं। 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारे पिछले गुरुवारीय अंक 
(11 जनवरी 2018 ) को देखें  या नीचे दिए लिंक को क्लिक करें 
◆◆◆◆◆◆◆
आप सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ
आपके बहुमूल्य साथ और सुझावों की प्रतीक्षा में

19 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात सखि री
    नस-नस मे देश भक्ति भर दी
    आप की इस प्रस्तुति में
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई

    🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह!!सुंंदर प्रस्तुति।गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी सामयिक हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!
    जय हिंद, जय भारत!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर
    सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!
    जय भारत जय भारती

    उत्तर देंहटाएं
  6. विचारणीय अग्रलेख के साथ कौशलपूर्ण चयन से तैयार किया गया एक शानदार अंक। आदरणीया श्वेता जी को बधाई।
    इस अंक के लिए चयनित सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं।
    सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ। सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा लिंक्स। गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सर्वप्रथम गड़तंत्र दिवस की शुभकामनायें सभी को
    बिलकुल सही गड़तंत्र दिवस समारोह मात्र सरकरी आयोजन नहीं ,ये राष्ट्रीय त्यौहार भी है जिसमें सभी देशवासियों देश भक्ति की भावना से ओत-प्रोत होकर देश के प्रति अपने -अपने श्रधा। सुमन अर्पित करते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही गणतंत्र दिवस समारोह मात्र सरकरी आयोजन नहीं ये राष्ट्रीय त्यौहार भी है..
    सुंदर भूमिका के साथ बहुत सुंदर प्रस्तुति
    उम्दा लिंकों का चयन..
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज 69 वें गणतंत्र दिवस पर इस महत्वपूर्ण अक को बड़े ही संवेदनशील तरीके से प्रस्तुत करने अद्भुद सामर्थ्य रखने वाली हमारी सक्षम कवयित्त्री आदरणीय श्वेता जी को विशेष धन्यवाद ज्ञापन है।
    इसमे निहित संदेश का पुनर्उल्लेख करना श्रेयस्कर होगा-
    हम सब अपने अधिकारों के प्रति इतने सजग होते है
    कि आक्रोश व्यक्त करने के लिए अपनी राष्ट्रीय संपत्ति का
    सबसे पहले नुकसान करते हैं।
    कभी सोचियेगा अपने कर्तव्यों प्रति हम कितने सजग है?सार्वजनिक स्थलों पर लिखे नियम पढ़ते तो सभी है पर
    इन नियमों का पालन हम में से कितने लोग करते हैं?
    सार्वजनिक स्थलों पर नागरिकों द्वारा किये गये आचरण और व्यवहार तय करते है कि किसी भी देश के नागरिक
    कितने सभ्य और सुसंस्कृत हैं।
    हर नागरिक अगर अपना सिर्फ़ एक कर्तव्य सुनिश्चित कर ले
    तो इससे बढ़कर देशभक्ति और कुछ नहीं होगी।

    पुनःनमण....

    उत्तर देंहटाएं
  12. . गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं आपको... उत्तम विचारों से सुशोभित आज की प्रस्तुति मन में देशभक्ति तो भर्ती ही हे,..पर सवाल भी उठाती हे कि ये देशभक्ति कहीं सिर्फ हमारी अंधभक्ति तो नहीं... ..अपने धर्म समाज के नाम पर हमारा अंहकार,तो नहीं जिस देश जल रहा है..अब डर लगता है इंसा होने से.. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं.. सभी रचनाएं अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं ।
    बेहतरीन प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  14. उम्दा!! जम्हूरियत के त्यौहार की मुबारकबाद!

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रिय श्वेता जी -- सभी गणतंत्र दिवस की अनंत शुभकामनाओं के साथ आज के अंक के सभी रचना कार साथियों को बधाई | आजके अंक में निहित सन्देश बहुत ही अहम् है | सच है अपने अधिकारों के प्रति सजगता के साथ हमें अपने कर्तव्यों का भी पूरा ख्याल रखना चाहिए | कानून व्यवस्था के साथ सहयोग कर और समाज और राष्ट्र के प्रति संवेदनशीलता का प्रदर्शन कर हम अपने अच्छे नागरिक होने का सूबूत दे सकतें हैं | यही सच्चा देश भक्त होने की निशानी हैं क्योकि हमारे लोग ही हमारा देश हैं | आजके संकलन के सफल प्रस्तुतिकरण के लिए आपको हार्दिक बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर लिंक संयोजन ....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंंदर प्रस्तुति।
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अप्रतिम अप्रतिम अप्रतिम

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...