निवेदन।


फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

917..आग लगा दीजिये शराफत को समझ में आ गये हैं बहुत शरीफ हैं बहुत सारे हैं हैं शरीफ लोग

||सादर नमस्कार||

बाज़ार से घर लौटते वक़्त बिना हेलमेट पहने आठ-दस, 
नौंवी-दशमीं कक्षा के स्कूली बच्चों को एक-दूसरे से होड़ करते, 
गति की परवाह किये बिना रफ़्तार से स्कूटी और बाईक चलाते,हुल्लड़ मचाते देखकर मन विचलित हो गया। जाने किस प्रेम से वशीभूत होकर अभिभावक बच्चों को ऐसी दुर्घटना का सामान पकड़ा देते है, फिर अनहोनी होने पर ज़िंदगीभर रोते हैं। प्रशासन और नियति को दोष देने से अच्छा है क्यूँ न पहले सी सतर्क हो जायें।देशभर में प्रतिदिन होनेवाली सड़क दुर्घटनाओं में नाबालिग चालकों का योगदान भी करीब 4% है। सभी अभिभावकों से विनम्र अनुरोध है कृपया ऐसी जरुरी बातों पर जागरुक रहें।

चलिए अब आज की रचनाओं का आस्वादन करते हैं

 आस्था के परदे में छुपे मलिन सत्य को उकेरती मर्मस्पर्शी रचना आदरणीय ज्योति खरे जी की लेखनी से
गंगा
पापियों के पाप नहीं
पापियों को बहा ले जाओ
एकाध बार अपने में ही डूबकर
स्वयं पवित्र हो जाओ---


●●●●●●●●●

कुछ खूबसूरत याद हृदय के कभी नहीं मिटते एक बेहद सुंदर उद्गार आदरणीया अनुपमा त्रिपाठी जी की कलम से

खिलखिलाती है ज़िन्दगी 
गुनकर जो रंग ,
बुनकर सा हृदय आज भी 


बुन लेता है

अभिरामिक शब्दों को

आमंजु अभिधा में ऐसे ,
जैसे तुम्हारी कविता

●●●●●●●●●

ज़िंदगी के हर रंग को अपने लाजवाब शब्द देकर बेहतरीन ग़ज़ल गढ़ते आदरणीय राजेश कुमार राय सर की कलम से

बरसती है जो रहमत आसमां से उपर वाले की

कहीं पर द़िल पिघलता है कहीं पत्थर पिघलता है



हुई जब शाम शम्मा जल गयी अब देख लो मंज़र

हजारों आशिकों का कारवाँ उस पर मचलता है



●●●●●●●●

सधे लफ़्ज़ों में कुछ अलग अंदाज़े बयां करती ग़ज़ल 
आदरणीय चंद्रभूषण मिश्र गाफ़िल जी की कलम से
है रास्ता बुरा या मैं चला देर से

इशारे के बाबत मुझे अब लगा
किया तो उसे पर किया देर से

वो दिल तक मेरे क्यूँ न पहुँचा अभी
है रस्ता बुरा या चला देर से

●●●●●●●●


एक बेहद सुंदर सारगर्भित कविता पढ़िये 
आदरणीय अशोक व्यास जी की कलम से

आहटों की टोह लेता
राह में
कब से डटा हूँ
रुक गया था
बढ़ते बढ़ते
रुकते रुकते
गंगा हूँ
शिव की जटा हूँ

●●●●●●●●

चलते- चलते मुँह में राम बगल में छुरी की कहावत को सुंदर शब्द में उकेरती आदरणीया कुसुम दी की रचना यशोदा दी की धरोहर से
सवाल बेशुमार लिये बैठें है...
हंसते हुए चहरे वाले दिल लहुलुहान लिये बैठे हैं
एक भी जवाब नही, सवाल बेशुमार लिये बैठें हैं। 

टूटी कश्ती वाले हौसलों की पतवार लिये बैठे हैं
डूबने से डरने वाले साहिल पर नाव लिये बैठे हैं।

डॉ. सुशील कुमार जी जोशी
ताजी खबरें....


चेहरे कभी 
नहीं बताते 
हैं शराफत 
बहुत ज्यादा 
शरीफ होते हैं 
बहुत से लोग 

दिमाग घूम 
जाता है 
‘उलूक’ का 
कई बार 

उसकी पकाई 
हुई रोटियाँ 
अपने नाम से 
शराफत के 
साथ जब 
उस के सामने 
से ही सेंक 

लेते  हैं लोग । 

आज के लिए बस इतना ही कल मिलिए विभा दी से

और बवाल पर बवाल जारी है
चार पंक्तियाँ मेरी भी गौर फ़रमाइयेगा
खुल के कह दी बात दिल की तो बवाल
लिख दिये जो ख़्वाब दिल के तो बवाल
इधर-उधर से ढ़ूँढते हो रोज़ क़िस्से इश्क़ के
हमने लफ़्ज़ों में बयां की मोहब्बत तो बवाल


आपसभी के सुझावों की अभिलाषा में

श्वेता

20 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात सखी
    उम्दा लिंक संयोजन
    सब छीन लिया
    बच्चों सा उनका बचपन मत छीनिए
    जीने दीजिए सुरक्षित
    पैदा कीजिए सुरक्षा की भावनाएँ
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत शानदार प्रस्तुति करण उम्दा लिंक संकलन
    बच्चों की आजादी और मस्ती के नाम पर ऐसी दुर्घटनाएं
    चिन्तनीय हैं....
    विचारणीय भूमिका....

    जवाब देंहटाएं
  3. बच्चों के प्रति लापरवाही है बिना लाइसेंस बने बाईक चलाने की अनुमति देना
    ऐसे ही बच्चे हर जुर्म के प्रति लापरवाह हो जाते हैं

    बढ़िया भूमिका के साथ उम्दा प्रस्तुतीकरण

    जवाब देंहटाएं
  4. सुप्रभात,सुंदर प्रस्तुति ..दी ।
    विचारणीय सवाल.. उम्र का असर कहें या खुद को श्रेष्ठ साबित करने की मुर्खतापूर्ण होड़.. अभिभावक की गलती भी ज्यादा होती है, वर्तमान जीवन शैली काफी बदल गई है,सभी अपने कर्त्तव्यों की इतिश्री इतनी जल्दी निभाते हैं कि दुरगामी परिणाम से बेपरवाह हो जाते हैं....कि बेटा आपने बाईक की जिद की लिजीए आपको मैंने दिला दी पर.. शर्त के मुताबिक आपको टाप करना है...बस ये होती है ज्यादा तर घरों की कहानी ..और परिणाम अक्सर दुखद ही होते हैं.. अच्छा लगता है जब आप लोग अपनी भुमिका में इस तरह के जहीन विषयों पर चर्चा करने के अवसर देते हैं.. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं ...!

    जवाब देंहटाएं
  5. हमेशा की तरह एक लाजवाब प्रस्तुति श्वेता जी की। आभार 'उलूक' का उसकी बकबक सूत्र को शीर्षक पर देने पर।

    जवाब देंहटाएं
  6. चाहे सड़क हो या ज़िन्दगी, बड़े हो या छोटे, "लहेरिया" चाल हमेशा घातक होती है! सुन्दर प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ..

    जवाब देंहटाएं
  8. सार्थक विचारणीय प्रस्तुति..
    नाबालिग के हाथ स्टेरिंग देना घातक परिणामों को बुलाना..
    सुंंदर लिंकों का चयन।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. स्वेता, आज बहुत ही अहम सवाल पर रोशनी डाली हैं तुमने। सभी को उस पर जरूर चिंतन करना चाहिए।

    जवाब देंहटाएं
  10. सुंंदर प्रस्तुति ...सवाल तो विचारणीय है ...बदलती जीवनशैली , दिखावा ..और क्या ..इसी कारण कई बार दुखद परिणाम भुगतने पडते हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  11. सुंंदर प्रस्तुति ...सवाल तो विचारणीय है ...बदलती जीवनशैली , दिखावा ..और क्या ..इसी कारण कई बार दुखद परिणाम भुगतने पडते हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत अहम विषय है ये। स्कूल में बाइक लाना मना है तो नजदीक के दुकानदारों से पहचान बनाकर उनकी दुकान के सामने पार्क कर लेते हैं या नजदीक रहनेवाले दोस्त के घर के आसपास पार्क कर देते हैं। ट्रैफिक हवलदार पकड़ता है तो उसे पैसे देकर कैसे बचते हैं, ये दृश्य देखें कभी तो पता चलेगा कि कितने चालाक और शातिर हो रहे हैं बच्चे अब !!! मासूमियत खो गई है। स्कूल की छुट्टी के बाद देखिए इनके स्टंट !!!! माता पिता को स्कूल में बुलाकर पूछते हैं कि कल आपके बच्चे के पास बाइक थी, आपने दी ? तो वे आँसू बहाते हैं, कहते हैं जिद करके ले गया, हमारी सुनता ही नहीं। एक अहम सवाल ये भी है श्वेता जी कि अब बच्चे माँ बाप को डराने लगे हैं, ब्लैकमेल करने लगे हैं। माँ बाप अब बच्चों से दबने लगे हैं ..हर वर्ष कई बच्चों के पिता मेरे पास आकर रोते हैं। पुरूष की आँखों से साधारणतः आँसू नहीं बहते किसी के सामने...पर पिता की आँखों से बहते हैं...ना जाने कहाँ गलती हो रही है बच्चों की परवरिश में, या समाज का पूरा ढाँचा ही बिगड़ गया है....ये गंभीर समस्या है। सभी को मिलकर सही उपाय खोजने होंगे जल्दी ही....
    आज के अंक की सभी रचनाएँ पढ़ीं, बहुत सुंदर अंक है। आभार एवं बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  13. वाह....
    बढ़िया रचनाएँ
    शुभ कामनाएँ
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत खूबसूरत प्रस्तुतीकरण श्वेता जी .

    जवाब देंहटाएं
  15. सुंंदर लिंकों का चयन।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही महत्वपूर्ण बात आप ने लिखा ! वाकई में यह एक विचारणीय प्रश्न है ! यातायात के अनुशासन की धज्जियाँ उड़ायी जा रही है ! कुछ लोग इतने बहक गए हैं कि उन्हें अपने प्राणों का भी मोह नहीं है !
    महत्वपूर्ण भूमिका के साथ लाजवाब लिंक संयोजन ! बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीया ! बहुत खूब ।

    जवाब देंहटाएं
  17. मैनें इनमें से दो रचनाएँ पढी-
    " 'आहटों की टोह लेता है..' और 'काॅपी कैट'"
    दोनो बेहतरीन है।

    जवाब देंहटाएं
  18. बेहतरीन लिंक संयोजन !! सादर धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर और सार्थक लिंक संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,,

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...