पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 13 जनवरी 2018

911... मेले- लोहड़ी-खिचड़ी की शुभकामनायें




इस ब्लॉग से शुरू हुए  नए कार्यक्रम 
एक क़दम आप.....एक क़दम हम
बन जाएँ हम-क़दम

का इस सप्ताह का बिषय है- 
"अलाव"
आप अपनी रचनाऐं आज शनिवार (13 जनवरी 2018 ) 
शाम 5 बजे तक भेज सकते हैं। चुनी गयी 10 रचनाऐं आगामी सोमवारीय अंक (15 जनवरी 2018 ) में प्रकाशित होंगीं। 
इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी हेतु हमारा पिछले गुरुवारीय अंक 
(11 जनवरी 2018 ) देखें या नीचे दिए लिंक को क्लिक करें -

909...एक क़दम आप.....एक क़दम हम बन जाएँ हम-क़दम


आज

Image result for लोहड़ी पर कविता
कल समाप्त हो जायेगा साहित्यकारों का कुंभ

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 6 लोग, लोग खड़े हैं

मेले की बात करते हैं

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

तो
खेले
झमेले
जेहन मेले
ख़ुशी की यादें
रंगीन चूड़ियाँ...
गम बबूल कांटें..
हां!
गच्चा
ना सच्चा
काम-कच्चा
साहित्य भीड़
सोंठ संपादक
ऐंठा-ऐंठा लेखक

हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास को खंगालेंगे तो राजेंद्र कुमार जी के दशक की
फ़िल्मों में एक बात कॉमन थी कि नायक-नायिका के बीच की इश्क़ियाहट क़िताबों के गिरने
और फिर साथ-साथ उठाए जाने से प्रारंभ होती थी. आंखों-आंखों में हुआ ये
प्यार इतना सशक्त हो जाता था कि बगिया के फूलों की डाली को झुकाकर
और नदी की बहती धारा से अठखेलियाँ करते हुए
जमाने भर से लड़ने की ताक़त एकत्रित कर लेता था

और विस्तार से जानने के इच्छुक खुद थोड़ा श्रम करें


चित्र में ये शामिल हो सकता है: 8 लोग, लोग खड़े हैं


सुन्दर-सुन्दर खिलौने,
झूलों पर झूलते लोग,
जलेबियां और समोसे,
हँसते-खिलखिलाते चेहरे,
मायूस, उदास चेहरे,
ठग, चोर-उचक्के,
मासूम-से बच्चे.


चित्र में ये शामिल हो सकता है: 7 लोग, Renuka Chitkara सहित, मुस्कुराते लोग



 देश भर के अनेकों बुद्धिजीवी इस अवसर पर एक साथ एकत्रित होते हैं, 
अत: पाठक लेखक संवाद को सहजता से यहाँ स्थापित देखा जाता है। 
अपने प्रिय लेखकों को सामने पा कर न केवल पाठक ही अभिभूत होता है 
अपितु लेखक को भी रचनाओं पर स्वाभाविक एवं सम्मुख प्रतिक्रियायें मिल पाती हैं। 
ऐसे आयोजन इस लिये भी नितांत आवश्यक हैं 
चूंकि इनके माध्यम से पुस्तकों के प्रति एक गंभीर अभिरुचि उत्पन्न होती है।


चित्र में ये शामिल हो सकता है: 5 लोग, मुस्कुराते लोग, लोग बैठ रहे हैं



कंधे पर चलने वाली गठरी मुठरी के अंदर के अनिवार्य सामानों की चर्चा हो
चाहे नई नवेली दुल्हन के चाल ढाल की,
दो सहेलियों की आत्मीय बातचीत के झगड़े में बदलने की दास्तान हो
या अटैची के ताले के मोलाने या ड्रामा देख कर भौजी के उछलने की बात हो..
हर जगह अपने सूक्ष्म अवलोकन


Image result for लोहड़ी




जोड़ सके जो सब को उसका नाम है एकता,

इसी से मिलती है दुनिया में सफलता.

एक- एक फूल से बनती है माला,

एक- एक धागे से बनती है दुशाला .

घर बनता है एक-एक ईंट से 








लोहड़ी के पर्व का ध्यान आते ही या नाम सुनते ही 
मन में भांगड़ा, गिद्दा, मूंगफली और रेवड़ी की तस्वीर उभरने लगती है। 
ऐसा लगने लगता है अब सर्दी तो 
बस कुछ ही दिन की मेहमान है।

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 5 लोग, मुस्कुराते लोग, लोग खड़े हैं



थकी हारी सी आती है 
कोहरे की चादर ओढे कभी
कभी गुमसुम सो जाती है
घर से बाहर निकले कैसे
दाँत टनाटन बजते है
मौसम की मनमानी दे

सर्दी की चुनौती "लेख्य-मंजूषा" के सदस्यों को आज मिली है
विस्तार से जानकारी अगले अंक में

><


विचित्र लग रही न .... हूँ ही ऐसी 

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारी लग रही है दी:)👌
    सुप्रभातम् विभा दी, सुंदर त्योहारों का एक पुलिंदा सकारात्मक ऊर्जा भरने आ गया है। आपको भी मकरसंक्रांति और लोरी की हार्दिक शुभकामनाएँ है।
    हमेशा की भाँति विशिष्ट संकलन दी। सुंदर रचनाओं का संग्रहन।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    आज की एक विषयक प्रस्तुति आपकी आम प्रस्तुतिया से भिन्न है
    मन भावन है...खुशबू भी आ रही है
    आभार इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी हैं और बहुत अच्छी लग रही हैं। हमेशा की तरह लाजवाब प्रस्तुति विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऋतु और त्यौहार का सुंदर संगम तिल गुड मूंगफली की सोंधी खुशबू लिये मधुर सी प्रस्तुति।
    चेहरे पे अनुभव का नूर,मधुर स्मित मन मे नेह और आदर जगाती सी लग रही हो दी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्छी लग रहीं है दी
    प्यारी - प्यारी सी

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमन विभा दी 🙏
    आपसे आज पहला दीदार
    प्रथम देव दर्शन का सा लग रहा है !
    त्यौहार की भीनी भीनी महक से महकते काव्य छंद
    मन को लुभा रहे है ... ..मै हूँ ही ऐसी के साथ नेह से छलकती हँसी मिठास घोल गई ..नमन
    शुभ सँक्रान्ति दी

    उत्तर देंहटाएं
  7. ना जाने क्यों,'मेला'शब्द को जब भी सुनती हूँ मुझे 'मेला'फिल्म का वह गीत याद आ जाता है -
    "ये ज़िंदगी के मेले दुनिया में कम ना होंगे,
    अफसोसं, हम ना होंगे !"
    गीतकार शकील बदायूँनी जी की बेहतरीन रचना है ये गीत!
    आज विभा दी को अचानक ये क्या सूझी ?....विचित्र नहीं,स्नेहमयी मुस्कान के साथ प्यारी लग रही हैं आप आदरणीय विभा दी ! बहुत अच्छी प्रस्तुति हम तक पहुँचाने के सादर धन्यवाद ! शुभकामनाएँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेले के कई रंग लिए बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिन भर की मेहनत और भाग दौड़ के बाद
    गनीमत है की आप शाम को सही सलामत घर पहुँच गए होंगे

    अब देश के हालात जानने के लिए टीवी खोल लीजिये

    चेंनल नंबर 1
    यह चैनल आपको दिखा रहा है की पाकिस्तान और चीन को कैसे सबक सिखाया जा रहा है,
    और यहाँ बगदादी चारों तरफ से घिर चूका है

    क्या हुआ ? संतुष्ट नहीं हुए तो चलिए चैनल बदल लीजिये

    चैनल नंबर 2
    यहाँ आपको अमेरिका और किम जोंग के सारे प्लान बताये जा रहे है
    जरा ध्यान से सुनते रहिये फ्यूचर में यह प्लान शायद आपके काम आएंगे

    अब भी आपको अगर सुकून नहीं है तो अगले चैनल पर चलिए

    चैनल नंबर 3
    यहाँ पर हिन्दू मुस्लिम के अधिकारों की बहस हो रही
    तलाक और गाय का यहां पर कब्जा है मुल्लां और पंडित अपने अपने धर्म की ठेकेदारी कर रहे है,


    क्या सोच रहे हो ? देश के हालत जानने के लिए टीवी खोला था आगे चलिए बताते है


    चैनल नंबर 4
    यहाँ पर अदालत लगी है ऐंकर ही वकील है और ऐंकर ही जज है
    ध्यान से सुनते रहिये कुछ ही देर में यहाँ पर किसी न किसी को देशद्रोही ठहरा दिया जायेगा

    क्या हुआ गुस्सा आ रहा है ?
    गुस्से को काबू में रखिये जनाब वरना ऐंकर टीवी से बहार निकल आएगा

    देश में क्या चल रहा है यह तो अब आप जान ही चुके होंगे
    टीवी बंद कर दीजिये और सुकून से सो जाईये
    कल फिर आपको दो जून की रोटी की तलाश में निकलना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  10. लोहड़ी की शुभकामनाओं के साथ विविधता से परिपूर्ण आयोजन. बेहतरीन अंक. सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनायें . विचारणीय चर्चा मेले पर...
    लोहड़ी पर्व की शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....
    लोहड़ी की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...