पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 25 अगस्त 2016

405...बहुत कुछ गिरता है, पहले भी गिरता था, गिरता चला आया है

श्री कृष्ण-जन्माष्टमी की बधाई 


अभिवादन स्वीकार करें
आरम्भ 
रमेश जी की लिखी एक हाईकू के साथ
विष की वर्षा
अब रसना पर
बसी मन्थरा 

...
अब शुरु होता है नयी-जूनी रचनाओं का सिलसिला..



सुख की मंगल कामना....शशि पुरवार
चाहे कितने दूर हो, फिर भी दिल से पास 
राखी पर रहती सदा, भ्रात मिलन की आस 

प्रेम डोर अनमोल ये, जलें ख़ुशी के दीप 
माता के आँचल पली, बेटी बनकर सीप 


अंतर्मन के शब्द.... मुकेश सिन्हा
हाँ, नहीं लिख पाता कवितायें, 
हाँ नहीं व्यक्त कर पाता अपनी भावनाएं 
शायद अंतस के भाव ही  मर गए या हो चुके सुसुप्त!
या फिर शब्दों की डिक्शनरी चिंदी चिंदी हो कर 
उड़ गयी आसमान में !!


ज़िन्दगी से बात... रेवा
बहुत दिनों बाद
तुमसे मुलाकात हुई
ऐसा लगा
मानो
ज़िन्दगी से बात हुई ,


पिघलते क़तरों में..........अनामिका घटक
नालिश जो थी तेरे लिए तेरे ही खातिर
बयाँ न हो पाया वो अहसास गुज़र गया -

दरों दीवार जो दो दिलों का था आशियाना
मजार-ए-इश्क़ आज वहीँ पे दफ़न है  ॥ 

दिल में खंज़र न चुभाना की तेरा नाम भी है... सिद्धार्थ सारथी
अब तो बातें न बना और हमें इतना बता 
सिर्फ साकी है यहाँ पर या कोई ज़ाम भी है 
वक़्त बेवक़्त मुझे यूँ ही बुलाया न करो 
सारथी के तो बहुत से यहाँ निज़ाम भी है

लोग मिलते है यहाँ पत्थर के ..... कंचनप्रिया
लब सिल जायें तब भी क्या हो
लफ़्ज़ जाहिर हो तब भी क्या हो
कोई नहीं आता सँवारने ज़िंदगी बंजर से
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

अन्तिम पड़ाव..एक साल पहले
‘उलूक’ को ना बाजार..डॉ. सुशील जोशी 
समझ में आता है 
ना उसका गिरना गिराना 
रोज की आदत है उसकी 
बस चीखना चिल्लाना 
हो सके तो उसकी कुण्डली 
कहीं से निकलवा कर 
उसके जैसे सारे उल्लुओं को 
इसी बात पर साधने का 
सरकारी कोई आदेश 
कहीं से निकाल दो । 
....
इज़ाज़त दें दिग्विजय को..
सादर









               
        


6 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई
    बहुत अच्छी लिंको का चयन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. हलचल परिवार एवं सभी सुधिजनो को को श्रीकृष्ण-जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं!
    बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर हलचल प्रस्तुति दिग्विजय जी। कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं। आभार 'उलूक'के सूत्र को स्थान देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया प्रस्तुति सर और मेरी रचना को चुनने के लिए आभार। .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया प्रस्तुति सर और मेरी रचना को चुनने के लिए आभार। .....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...