पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 2 अप्रैल 2016

260 .... शीर्षक नहीं .... बिन बिंदी लगे दुल्हन




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

बेबकूफ बनोगे ?

यूँ तो इसका कोई खास महत्व नहीं रह गया है
क्योंकि रोज़ कई-कई तरह से आदमी बनता-बनाता है.
फिर भी, जैसे की परम्परा है कि
एक अप्रैल को आप ख़ास तौर से बेवकूफ बनाए जा सकते हैं





मेरे मन की बात

रात तकरीबन 2 बजे की बात है....
गहरी नींद में सो रहा था कि तभी मोबाइल पर मैसेज टोन बजती है....
उसके बाद कई ख्याल दिमाग में आने लगे....
शायद मेरी याद में सो नहीं पा रही पूर्व प्रेमिका का
ये मैसेज है या ना जाने किसी नई प्रेमिका का....
फिर एक हाथ से आंख मसलते हुए दूंसरे हाथ से मोबाइल उठाताया


रंगना छूटे सभी खिलोने 
बीती बातें समय सलोने 
दीवारों पर तस्वीरों में 
जड़ा हुआ बचपन रंग देना 
तुम ये मेरा मन रंग देना


नास्तिकता खूबसुरत है

एक अन्य आश्चर्य की बात है कि जहाँ सभी धर्म मनुष्य को
ईश्वर का रूप या फिर उसके द्वारा उत्पन्न मानते हैं,
वहीं किसी भी धर्म में मनुष्यों की समानता को पूर्ण रूप में
धरातल पर नहीं उतरा गया और प्रत्येक धर्म में विशेषाधिकार
युक्त एक वर्ग मौजूद रहा जो व्यक्ति और
ईश्वर के बीच के बिचौलिए का काम करता है



एक नयी शुरुआत

मैं लोक लुभावन वादे करूँ ,
तुम शर्म का आँचल पकडे रहो!
मैं जिद कर-कर के तुमसे पूछा करूँ,
पर.. तुम फिर भी इंकार करो!
मैं थक हार के फिर बैठ जाऊं......
तब जा कर तुम मेरे पास आओ




इलाही कैसा मंज़र है

कभी जब सामने उस ने कहीं इक आइना देखा
न जाने देख कर क्यूँ रास्ता अपना  बदलता है
बुलन्दी आसमां की नाप कर भी आ गए ताईर
इधर तू बैठ कर खाली ख़याली  चाल चलता है



एक कविता

इसे क्या पता कितना खोया है,
बेवक्त भी सोया है,
उठेगा, कर्म को कोसेगा, ...
जिंदगी की रेस में भटकेगा,


फिर मिलेंगे .... तब तक के  लिए

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव



2 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...