पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 12 नवंबर 2015

117...खील खिलाना है दीवाली का अनिवार्य अंग

दीप पर्व की शुभकामनाएँ
रात्रि के छठे प्रहर में
पूजा का महूर्त था
पूजा निर्विघ्न सम्पन्न हुई

कहते हैं न..
लालच बुरी बला होती है
सो कम्प्यूटर चालू किया
देखा  संजय भाई
पटाखे चलाने में व्यस्त हैं
रात के 3.45 हुए हैं अभी
फटाफट प्रस्तुति हाजिर है....



खोये हम जाने कब से रहे भटक तन्हा तन्हा हम
दिल की लगी को
दिल लगा कर
तुमसे
अब समझे हम 


इस बार दीपक वे जगें ,फैले उजाला प्यार का , 
अंत हो इस मुल्क में मज़हबी तकरार का ! 

हो मिठाई से भी मीठा , मुंह से निकले बोल जो , 
ये ही मौका है मोहब्बत के खुले इक़रार का !  


दिल कहां सीने में जैसे दुश्मने-जां हो गया 
आईने में देख कर सच को पशेमां हो गया 
हार कर भी तो सबक़ सीखा नहीं कमज़र्फ़ ने 
ठोकरों की मार से मुंहज़ोर नादां हो गया 


राम 
मन मन्दिर विराजें, 
मन के आँगन से 
रावण निर्वासित हो जाये... 
दीपों के 
झिलमिल प्रताप से 
दृष्ट-अदृष्ट हर कोना 
सुवासित हो पाये... !! 


रूठी ख़ुशियों को फिर आज़ मनाते हैं 
झिलमिल उम्मीदों के दीप जलाते हैं 

जिनके घर से दूर अभी उजियारा है
उनके चौखट पर इक दीप जलाते हैं 


खील खिलाना अलग है
खिलखिलाना अलग है
खील खिलाना है दीवाली का अनिवार्य अंग
मुस्कुराना मानवता का मज़हब है


आज्ञा दें यशोदा को
सोने जा रही हूँ














5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात...
    अथक प्रिश्रम...
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात यशोदा दीदी
    देरी के लिए माफ़ी चाहता हूँ आपका बहुत बहुत आभार प्रस्तुति के लिए :))

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर लिंक्स। अच्छी हलचल। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आस्तीन के सांप
    शर्म आती है की देश का प्रतिनिधि किसी दूसरे देश में जाकर अपने देश की गरीबी का और भ्रष्टाचार का तरह दुनिया के सामने बखान करे क्या इस देश ने पिछले 60 सालों में कुछ नहीं पाया क्या इस देश में इतनी गरीबी और भ्रष्टाचार था की दुनिया के सामने हम अपने आप को बेबस और लाचार परस्तुत करें
    नहीं हम लाचार ना थे ना ही होंगे.....
    बस मुद्दे की बात यह हे मोदीजी पहले आप अपने लोगों को ठीक करने और भारत के विकास बारे में सोचिये .....यह जो भारत की अखंडता के साथ खिलवाड़ करने वाले तत्व हे जो नफरत और ज़हर उगलते बयानों से भारत को तोड़ने का काम कर रहे ऐसे सपोलो पर लगाम लगाईये...वरना यही सपोले कल आस्तीन के सांप बन कर ड्सेंगे........जिसकी एक झलक दिल्ली और बिहार में दिख चुकी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. यशोदा ji,अच्छी हलचल,मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...