पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2015

अब तुम पूछती हो प्रश्न जो उत्तर रहित हैं...अंक सत्यासी

वो कहते हैं...
उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ!
सामने न सही पर आस-पास हूँ!
पलकों को बंद कर जब भी दिल में देखोगे !
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ !..

सादर अभिवादन..

ये रही आज की पसंदीदा रचनाओं के सूत्र..


रौशनी है 
लोहे के घर में 
अँधेरा है 
खेतों में, गाँवों में 
जब कोई छोटा स्टेशन 
करीब आता है 


संवाद
पूछती थी प्रश्न यदि, उत्तर नहीं मैं दे सका तो,
भूलती थी प्रश्न दुष्कर, नयी बातें बोलती थी ।
किन्तु अब तुम पूछती हो प्रश्न जो उत्तर रहित हैं,
शान्त हूँ मैं और तुमको उत्तरों की है प्रतीक्षा ।


अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ 
एक ज़रा शेर कहूँ , और मैं क्या क्या देखूँ 

नींद आ जाये तो क्या महफिलें बरपा देखूँ 
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहारा देखूँ 


अनदेखा ना होता हो 
भला मानुष कोई भी 
कहीं इस जमाने में 
जो किताबों से इतर 
कुछ मंत्र जमाने के 
हिसाब के नये 
बताता हो समझाता हो ।


शहर कभी कभी अपनी बत्तियां बुझा देता 
और खुद को गाँव होने के दिलासे देता. 
पॉवरकट की इन रातों में लड़की की नींद टूट जाती. 
आसमान एक फीके पीले रंग का होता. 
गर्मी की ठहरी हुयी दोपहरों का. 
जब ये रंग धूल का हुआ करता था. 
इस रंग का कोई नाम नहीं था. 
लड़की चाहती थी इस रंग में ऊँगली डुबा ले 
और जुबां से चख कर कहे...उदासी.



हम दोनों ही अपने रास्ते खो चुके थे 
और नए रास्ते तलाश रहे थे 

हम दोनों बहुत थक गए थे
लेकिन हारे नहीं थे

हम दोनों उदास थे
और मुस्कुराहटें ढूंढ रहे थे


इज़जात दें यशोदा को
फिर मिलते हैं


आगे क्या होगा
न मैं जानती हूँ
न आप


















8 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात...नवरात्रों की शुभकामनाएं....
    सुंदर संकलन.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर विविधरंगी लिंक्स..शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति..
    सभी को नवरात्र की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' की बकबक 'अनदेखा ना हो भला मानुष कोई जमाने के हिसाब से जो आता जाता हो' को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...