पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 12 अक्तूबर 2015

मरे हमारा बेटा ! सोचा कैसे.....अंक छियासी में

बस अभी लौटी हूँ
मद्रास से....
सब ठीक-ठाक है...
सादर अभिवादन स्वीकारें....


आज की कड़ियाँ मैं चुन रही हूँ...
पढ़ रही हूँ और सुन भी रही हूँ..
आप सुनेंगे....सुनाती हूँ...



ये रही आज की कड़ियां.....


मुश्किल होता है समझ पाना 
या की खुद को समझा पाना 
जब आप किसी के साथ चल रहे हो 
और उस के साथ होने का एहसास हो 


तुम खूब रहे हम खूब रहे
तुम पार हुए हम डूब रहे

अपना न मुरीद रहा कोई
पर तुम सबके मतलूब रहे


सोचा कैसे -
सियासत में ही लाएँगे युवराज को
सीमा का प्रहरी, सोचा कैसे ?
सिर बोझ बहुत है टोपी का अपने
ढोयेँ व्यथा देश की ,सोचा कैसे ?
शिक्षण प्रशिक्षण राजनीति का देंगे
संस्कृति संस्कारों का, सोचा कैसे ?
उदय वीर सिंह का बेटा शहीदी पाये
मरे हमारा बेटा ! सोचा कैसे ?


आज एक अजीब सी
उलझन, कौतुहल,
बेचैनी, उद्विग्नता है.
भारी है मन
और उसके पाँव.
कोख हरी हुई है


मौत का राज 
दरवाजे के अंदर से एक सफ़ेद साडी में लिपटी औरत ने प्रवेश किया 




सभी देखने वालो के गले के नीचे थूक तक नहीं उतर रहा था। 


चलो आज  
ऐसा करें कि 
बहुत दिनों से बंद 
यादों की अलमारी के 
ताले  खोल दें 


आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे.....
सादर

सुनिए बांसुरी में एक गीत














7 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया पंचलिंकी हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया हलचल यशोदाजी। मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर लिंक सयोजन यशोदा जी. मेरी रचना को स्थान देने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. संजय जी मुझे आपका पंचलिंक ब्‍लाग बहुत पसंद आया है। ऐसे ब्‍लाग की परिकल्‍पना करना हर किसी के बस की बात नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय जी मुझे आपका पंचलिंक ब्‍लाग बहुत पसंद आया है। ऐसे ब्‍लाग की परिकल्‍पना करना हर किसी के बस की बात नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...