पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 15 अगस्त 2015

स्वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई के संग अशेष शुभकामनायें






वंदे मातरम्




जय जवान जय किसान


लोकतंत्र हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को
बस अधिकार की बात ना सोचों, समझों कर्तव्य के भार को
भुला न पायेगा काल, प्रचंड एकता की आग को
शान से फैलाकर तिरंगा, बढ़ाएंगे देश की शान को
बीत जायेगा वक्त भले, पर मिटा ना पायेगा देश के मान को
ऐसी उड़ान भरेंगे, दुश्मन भी होगा मजबूर, ताली बजाने को




खून से मिली आजादी
बस हमें याद यही रखनी



ना हिन्दू बन कर देखो 
ना मुस्लिम बन कर देखों
बेटों की इस लड़ाई में 
दुःख भरी भारत माँ को देखो




बचना ऐसे मेहमाँ से


खुद राजा बन बैठता मेजमाँ पर रजा चलाता है
गुलाम खुद के घर में रंक टुकड़ो में बाँट बनाता है



एकता ही संबल हैं, तोड़े झूठे अभिमान को
कंधे से कंधा मिलाकर, मजबूत करें आधार को
इंसानियत ही धर्म हैं, बस याद रखें, भारत माता के त्याग को
चंद पाखंडी को छोड़कर, प्रेम करें हर एक इंसान को
देश हैं हम सबका, बस समझे कर्तव्य के भार को
नव युग हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को 






क से कुबेर क से कंगाल कहो है न वश की बात
मेहमाँ न रहे बसे ज्यादा दिन जो बाहर औकात




धर्म ना हिन्दू का हैं ना ही मुस्लिम का 
धर्म तो बस इंसानियत का हैं 
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों 
सच क्या हैं झूठ क्या हैं 



कुछ ने स्वार्थवश धर्म जाति की राख उड़ाई है
बेशर्म खुद संस्कार अक्स पे कालिख लगाई है



किसी मंदिर या मस्जिद से नहीं 
बेगुनाह बच्चे की मौत पर किसी माँ से पूछो
देश का सपूत बनाना हैं तो कर्तव्य को जानो 
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्यौछारों



जय हिन्द


फिर मिलेंगे तब तक के लिए आखरी सलाम






विभा रानी श्रीवास्तव






6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    स्वतंत्रता दिवस की शुकामनाएँ
    समयानुकूल प्रस्तुति
    साधुवाद...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सभी आदरणाीय मित्रों एवं शुभचिंतकों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकमनाएं.......!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ........देश हैं हम सबका, बस समझे कर्तव्य के भार को
    नव युग हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को....शानदार बस निराशा को छोड़ अपने कर्तव्य को पूरा करना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब ........देश हैं हम सबका, बस समझे कर्तव्य के भार को
    नव युग हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को....शानदार बस निराशा को छोड़ अपने कर्तव्य को पूरा करना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर लिंक संकलन...
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...