पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

490..नहीं आया समझ में कहेगा फिर से पता है भाई पागलों का बैंक अलग और खाता अलग इसीलिये बनाया जाता है

सादर अभिवादन स्वीकार करें
 
मुलाहिज़ा फ़रमाएँ आज की पसंदीदा कड़ियाँ...


कैदी भी हिंदुस्तान के अब जंग माँगते हैं.
मोदी रहो अब चुप सब दिल से ठानते है़.
हिंदु स्थान का हर इक बाशिंदा चाहता है
बस पाक को मिटा दो वो सबक मांगता है.


मैं गरीब का बेटा ..
संगिनी मेरी गरीबी है..
मैं चलता हूँ नंगे पांव ..
दर्द मेरा हमसफर है ,
लाचारी बहन मेरी ..
दोस्त गम का साया है ...
झूठ बोला कहने सब ..
वो मुस्कुराया है .. 

यौवन की दहलीज पर,यूं रखते ही पांव। 
मन जोगन सा ढूंढता,आज पिया का गांव।

ढूंढ ढूंढ जब थक गई, मिली पेड़ की छांव। 
राह बताते लोग सब,दूर पिया का गांव।।


एक नन्हा फूल कल तक थी कली
आज चकित सी पवन में हिल रही
देख कर वो रंग भरी पांखुरी
मन ही मन निज रूप पर थी खिल रही

चाहे आये आंधी - तूफ़ान होते दो पल के मेहमान 
जब रात ढली है, तो दिन का निकलना भी तय है। .. 
विश्वास की डोर थामे रखती होती वो शक्ति अनजान 
उजाले की सिर्फ आस में ही, अँधेरे से नहीं भय है।


चलो चलें न
उस ओर
जहाँ धर्म की लताएँ न हों
प्रेम की लताएं फैली हों केवल

आज का शीर्षक....

भविष्य में पढ़ने 
लिखने के विभागों 
में उसी तरह 
का पाठ्यक्रम 
चलाया जाता है 
जिसमें आता और 
जाता पैसा माल 
सुरंगों के रास्ते 
निकाला और 
संभाला जाता है 

चलूँ मैं इज़ाज़त लिए बगैर...
काम-धंधे के टाईम पर
ब्लॉग छापने के काम में लगा दिया मुझे
इन पचास दिनों में
काम की भरमार है..
दिग्विजय 




4 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...