पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 6 नवंबर 2016

478.....परिवार में चूल्हा बंटता है ,पर्व नहीं

सादर अभिवादन..
पर्व का दिन है..
सीधे चलते हैं रचनाओं की ओर......


IMAGE1
अमानुषिक [कविता]..... डॉ महेन्द्र भटनागर
आज फिर खंडित हुआ विश्वास,
आज फिर धूमिल हुई
अभिनव जिदगी की आस।
ढह गए
साकार होती कल्पनाओं के महल।


जाहिद हुसैन ने फरमाया- “जी सर! चम्पावत से 7 किमी आगे लोहाघाट की ओर पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राज मार्ग-125 पर “खूना मलिक” के नाम से एक गाँव है। वही हमारा प्राचीन पहाड़ी गाँव है। 
जिसमें आज भी केवल मनीहार लोग ही निवास करते हैं ।”  
अच्छा जाहिद हुसैन यह बतलाओ कि टनकपुर के पास “मनीहार-गोठ” के नाम से 
जो आपका गाँव है उसका इतिहास क्या है?  


चले पटाखे 
मन गयी दीवाली 
संत्रस्त लोग 


जो काँटा तुम्हारे पांव में चुभा है,
तुमको भी दुःख पहुंचाता है,
मुझे भी,
यह बात तुम भी जानते हो,
मैं भी,



अवकाश प्राप्त कर नौकरी के क्वाटर को छोड़ कर जब वे घर रहने जा रहे थे .... संजोग से मैं उस समय वहाँ थी .... घर पहुंचते रात हो जाने वाली थी .... मैं भाभी को बोली "सबके लिए यही से खाना बना कर ले चलते हैं ... मेरी बात खाना बनाने वाली सुनते ही मेरे पिता दुखित हो गए ..... घर पर उनसे बहुत बड़े भाई , भाई=पिता समान यानि मेरे बड़े बाबू जी और बड़ी अम्मा रहते थे ... जो खुद वृद्ध थे .... उनके बच्चे बाहर रहते थे .....



एक मुद्दत पहले गीली माटी में
घुटनों के बल बैठ कर
टूटी सीपियों और शंखों के बीच
अपनी तर्जनी के पोर से
मैनें तुम्हारा नाम लिखा था ।



ठीक है, उसे कंबल दे दो... फेसबुक से
वह बड़ा मुल्क भारत है ।
जहाँ की योजनाएं इसी तरह चलती हैं ।
और कहा जाता है कि भारत में सब समान हैं
सबका बराबर का हक़ है।

बस आज यहीं तक
कल फिर मिलते हैं


9 टिप्‍पणियां:

  1. ढ़ेरों आशीष व अशेष शुभकामनाओं संग शुभ प्रभात छोटी बहना
    बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर लिंक्स ! आज की हलचल में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका धन्यवाद यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया लिंक्स. मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ संध्या ओंकार भाई
      आपकी रचना सोमवार के लिए लिक हुई है
      सादर

      हटाएं
    2. सखेदः
      आज भी है
      सादर

      हटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । छठ पूजा की शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर संकलन.मेरी रचना शामिल करने के लिए हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. समझदारी भरी सलाह... बड़े बुजुर्गों की थोड़ी सी समझदारी परिवारों को आपस में जोड़े रख सकती है....
    अच्छे लिंक्स!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...