निवेदन।


समर्थक

बुधवार, 19 फ़रवरी 2020

1678..भोर का उठना है उपकारी..

।। भोर वंदन।।

“ भोर का उठना है उपकारी।
जीवन-तरु जिससे पाता है हरियाली अति प्यारी।
पा अनुपम पानिप तन बनता है बल-संचय-कारी।
पुलकित, कुसुमित, सुरभित, हो जाती है जन-उर-क्यारी”
हरिऔध
सुप्रभातम के साथ अब नजर डालें..
सृजनात्मक के विधा से

💠💠



निकली घर से सखी-सहेली।
सूरज सिर पर लगा चमकने,
सरोवर में कमल दल हँसने।।

खिल आई पूरब में लाली,
कलियाँ खिलती डाली डाली।
चली बसंती हवा हर प्रहर,
सुखद अनुभूति से भरी लहर..

💠💠



हो रहा बेजार, ये मझधार है!

जीवन, जिन्दगी में खो रहा कहीं,
मानव, आदमी में सो रहा कहीं, 
फर्क, भेड़िये और इन्सान में अब है कहाँ?
कहीं, श्मसान में गुम है ये जहां, 
बिलखती माँ, लुट चुकी है बेटियाँ, 
हैरान हूँ, अब तक हैवान जिन्दा हैं यहाँ!
अट्टहास करते हैं वो!
तुम चुप हो क्यूँ?

💠💠

आज मंगलवार है। हम में से एक सम्प्रदाय विशेष के अधिकांश लोग अपनी साप्ताहिक दिनचर्या के अनुसार आज और शनिवार को भी कहीं जाएं या ना जाएं परन्तु अपने आसपास या शहर के किसी नामीगिरामी हनुमान उर्फ़ महावीर मन्दिर में जरूर जाते हैं। फिर एक सिन्दूरी टीका माथे पर लगाये, अकड़े गर्दन में गेंदे के फूलों की माला और हाथ में लड्डू का ..
💠💠




सावन भादों में पड़े, रिमझिम नित्य फुहार।
गौरी गीतों में करे, अपनी विरह पुकार॥ 
अपनी विरह पुकार, मिले साजन मन भावन। 
बाहर बरसे बून्द, आग भीतर दे सावन॥

💠💠

आ० चन्द्र भूषण मिश्र 'गा़फ़िल जी..
शम्स है सिरहाने या छत पर क़मर है
फ़र्क़ है क्या रोज़ो शब सोना अगर है

क्यूँ नहीं उठ सकती आह आख़िर ज़माने!
जो कटा शब्जी नहीं है एक सर है..

💠💠
हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए
💠💠

।। इति शम ।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह 'तृप्ति'..✍

7 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन...
    आभार आपका..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीया पम्मी जी द्वारा चयनित कुछ रचनाओं में स्थान पाकर आह्लादित हूँ । मंच को नमन।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर अंक, बेहतरीन रचनाएं, मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार पम्मी जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...