पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 13 जुलाई 2016

362..ले खा एक स्टेटमेंट अखबार में और दे के आ

सादर अभिवादन
देवी जी की तबियत आज ज़रा

नासाज़ सी है
सो आज मेरी पसंद...
कुछ आपकी पढ़ी भी हो सकती है
और अनपढ़ी भी....



इंसान की असली दौलत ...कविता रावत
नेक इंसान नेकी कर उसका ढोल नहीं पीटता है।
अवगुण की उपस्थिति में सद्‌गुण निखर उठता है।।

कोई बुराई अपनी सीमा के भीतर नहीं रह पाती है।
अच्छाई और सद्‌गुण इंसान की असली दौलत होती है।।


तेरे प्रेमग्रंथ के पन्नों पर...रंजना वर्मा



गुज़र गए जो पल वो लौट कर नहीं मिलते ...दिगम्बर नासवा
हजार ढूंढ लो वो उम्र भर नहीं मिलते
उजड़ गए जो आँधियों में घर नहीं मिलते

नसीब हो तो उम्र भर का साथ मिलता है
किसी के ढूँढने से हम-सफ़र नहीं मिलते



तस्वीर तेरी अपने दिल में बसा कर
नैनो में अपने लौ दिये की जला कर
इंतज़ार में बैठे हम तुम्हारे लिये
राह में तेरी अपनी पलके बिछा कर


अबला नारी...आशा सक्सेना
अवला नारी बेचारी 
सवल कभी ना हो पाई 
हर कोशिश असफल रही 
है अन्याय नहीं तो और क्या |
सीता ने दी अग्नि परीक्षा 
थी सचरित्र साबित करने को 






फिर चले आना....सरिता भाटिया 
गिले शिकवे सभी से अब मिटा लो फिर चले आना 
जरा तुम प्यार अपनों से जता लो फिर चले आना 

न जाने कब तलक यह रात होगी जिंदगी में अब 
दिया इक आस का तुम जो जगा लो फिर चले आना 


तुमने बेचैन होके इस कदर पुकारा मुझको।
साहिल पे छोड़ गई मझधार की धारा मुझको॥

कैसे देगा कोई इस भँवर में सहारा मुझको।
जबकि अपना ही ग़म अब तो है प्यारा मुझको॥


आग   खुद  में  लगाए  हुए हैं 
दिल  में   उसको  बसाए हुए हैं 

उसकी  सरकार में इक सदी से 
अपने  सर को  झुकाए  हुए हैं 



आज का शीर्षक...
ले खा एक स्टेटमेंट अखबार में और दे के आ.... डॉ. सुशील जोशी
बंदरों के
सारे कार्यक्रमों
की फोटो
के साथ 
उल्लू बैठा
था मंच पर
अध्यक्ष भी 
बनाया
गया था 

आज के लिए बस 
इतना अतिक्रमण काफी है
आज्ञा दें 
दिग्विजय को
सादर



9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    जरा सी छींक क्या आई
    बिस्तर पे धर दिया
    पिया हो तो ऐसे ही
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात...
    सुंदर संयोजन....

    उत्तर देंहटाएं
  4. Behatarin rachanayen...meri rachna shamil karne ke liye shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  5. Behatarin rachanayen...meri rachna shamil karne ke liye shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छे लिंक्स हैं ... आभार मुझे शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर हलचल। आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के अखबार के एक पुराने स्टेटमेंट की फिर से संस्तुति के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर हलचल में मेरे पोस्ट शामिल करने के लिए आभार सर |

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...