पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 9 जून 2016

328....पुरानी यादों को ताजा कर गया


सादर अभिवादन
संजय जी आज फिर नही हैं
लगता है भूल गए..कि
वे चर्चाकार भी हैं इस ब्लॉग के

आज की शुरुआत उन्ही की एक रचना से



संजय भास्कर...
उस डायरी पर
तब एक लम्हे में जिंदगी जी
लेने का अहसास
मुस्कुराहटें कुछ तस्वीरें
और कुछ अधूरी सी कवितायेँ
और बहुत कुछ बीते कल के बारे में
पुरानी यादों को ताजा कर गया !!



नीरज कुमार "नीर".......
नदी को लगता है
कितना आसान है
समंदर होना
अपनी गहराइयों के साथ
झूलते रहना मौजों पर



शैल सिंह......
अभी तो पग हैं धरे डगर पे
चलना दूर बहुत है बाकी
सफर अभी तो शुरू हुआ है
तय करना सफर बहुत है बाकी



ढूंढ रहा रह कोई सच, पर छोड ना पाये झूठ के साये
बदलते लोग विघुत गति से, बिन मतलब पास ना आये

झूठी तारीफों के पुल पर, रिश्तों की बिल्डिंग बन जाती
कहते फिरे सच सुनने वाले ही बस हमरे मन को भाये



मेरे ऑफिस जाने का बाद बच्चों ने इस तरह बुआ  के साथ मिलकर मुझे सरप्राइज़ देने का प्लान बनाया था। यह मुझे तभी मालूम हुआ। अपने जन्मदिन पर केक और बच्चों के हाथ से बना ग्रीटिंग पाकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई।  सोचती हूँ इस तरह के अपनेपन से भरे क्षण पाकर मेरी तरह ही सबको भी ख़ुशी मिलती होगी, है न


ये प्रस्तुति अभी-अभी बनाई हूँ
मेरी डायरी के मुुड़़े हुए पन्ने हैं ये
सादर..

चलते चलते कविता दीदी के लिए..

"आ तेरी उम्र मै लिख दूँ चाँद सितारों से
तेरा जनम दिन मै मनाऊ फूलों से बहारो से

हर एक खूबसूरती दुनिया से मै ले आऊँ
सजाऊँ यह महफ़िल मै हर हँसी नजारों से

उम्र मिले तुम्हे हजारों हजारों साल ...
हरेक साल के दिन हो पचास हजार !!"

हार्दिक शुभ कामनाएँ...

यशोदा

9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    सुंदर संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा लिंक्स के साथ प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  3. यशोदा जी अपनी डायरी के मुुड़़े हुए पन्नों से निकले इस अनमोल उपहार से में मन भावविभोर हुआ, बहुत-बहुत धन्यवाद!
    हलचल प्रस्तुति में पोस्ट शामिल करने व मान देने हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी रचनाओं का बढिया संकलन।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत शुक्रिया यशोदा जी इंटरनेट की धीमी गति के कारण आज प्रस्तुति नहीं बना पाया
    आपका बहुत बहुत आभार

    सादर
    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत उम्दा लिंक्स । सादर धन्यवाद् नदी और समंदर को स्थान देने के लिए

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...