पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 7 मार्च 2016

234....खो गए हैं अब वो स्वप्निल से पल !


कूटे शरीर
*पी नशेड़ी , 
पले कुपूत
स्त्री बेच
फिर..से
*पी=पति
थोड़ा तोड़-मरोड़ दी हूँ
दीदी क्षमा कर दीजिएगा

चलिए चलते हैं.....

यह  शहर भी  जेब  को  पहचानता है ।
गर्दिशों   में    बन   धुँआ  उड़ते  रहो ।।

सच  से वाकिफ हो चुकी है आशिकी ।
तुम  जमी  को  आसमाँ   कहते  रहो ।।


जो मन में घटित हो रहा था उसे लिख नहीं लिया . 
क्या कहा जाए इसे ? 
क्या ये लेखन की सफलता नहीं ? 
आज का युवा जो लिख रहा है 
वो पढ़ा जाना भी उतना ही जरूरी है 
जितना वरिष्ठों को . 


असहनीय अशोभनीय बातें तब तक सहती रही 
जब तक सहनशक्ति जबाब नहीं दे दिया ..... 
एक दिन बिफर ही पड़ी और चिल्लाई .... खाने में जहर दे .... 
सबको मार कर , घर में आग लगा दूंगी .... 
सब स्तब्ध रहे ..... पिटने का अंत हुआ ..... 
धीरे धीरे खुद के लिए लड़ना सीख गई और 
आत्मसम्मान से जीने की कोशिश करने लगी .... 


वतन है तो हम हैं ,वरना बे-कफन हैं-
आदर्श हमारे आयातित नहीं हो सकते
हम मुकम्मल हैं इतने हमारे फन हैं -
न स्टेलिन न हिटलर की सभ्यता माँगूँ


शाम की परतों में 
दफ़्न रहते हैं 
जाने कितने ही  
अधूरे ख्वाब 
मजबूर ख्वाहिशें , 
भूखे पेट , टूटे शरीर 
पूरे दिन का दर्द समेटे

और ये है आज की शीर्षक रचना का अंश


नयी उड़ान में....उपासना सियाग
चमकते सितारों से
नज़र आते हैं बुझी राख से ....
खो गए हैं अब
वो स्वप्निल से पल !

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलते हैं..


5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात छोटी बहना
    बहुत अच्छा लगता है जब आपको अपने लिखे को पसंद करते देखती हूँ
    आभारी हूँ _/\_

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. महा शिवरात्रि की शुभ कामनाएँ...

      लो फिर आया
      ॠतुराज बसंत
      मस्त तरंग ।

      सादर

      हटाएं
  2. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...