पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

रविवार, 6 मार्च 2016

233....मतदाता फिर भी सोता है

सुप्रभात
नमस्कार मित्रो
आँखो मे पानी आने के कारण
 जल्दबाजी मे लि गई
 लिंको की प्रस्तुति
आशा है आपको आनन्द आएगा

रचनाकार पर....
जब किसान आंसू बोता है
हर पौधा शोला होता है
कुटियों को नचवाया जाता
जश्न महल में जब होता है
हर चुनाव ने इसको लूटा
मतदाता फिर भी सोता है
लोकतंत्र फल-फूल रहा है
संविधान फिर क्यों रोता है
ग्रंथों से मोती बटोरता
गहन लगाता वह गोता है
ज्ञान नहीं खुद का भविष्य फल
बना ज्योतिषी जो तोता है

ज्ञान दर्पण पर.......रतनसिंहजी
जयचन्द्र (जयचन्द), महाराज विजयचन्द्र के पुत्र थे। ये कन्नौज के राजा थे। जयचन्द का राज्याभिषेक वि.सं. १२२६ आषाढ शुक्ल ६ (ई.स. ११७० जून) को हुआ। राजा जयचन्द पराक्रमी शासक था। उसकी विशाल सैन्य वाहिनी सदैव विचरण करती रहती थी, इसलिए उसे ‘दळ-पंगुळ' भी कहा जाता है। इसका गुणगान पृथ्वीराज रासो में भी हुआ है। राजशेखर सूरि ने अपने प्रबन्ध-कोश में कहा है कि काशीराज जयचन्द्र विजेता था और गंगा-यमुना दोआब तो उसका विशेष रूप से अधिकृत प्रदेश था। नयनचन्द्र ने रम्भामंजरी में जयचन्द को यवनों का नाश करने वाला कहा है।


गौमाता भूखी मरे, श्वान खाय मधुपर्क।
समझो ऐसे देश का, बेड़ा बिल्कुल गर्क।।
--
चरागाह में बन गये, ऊँचे भव्य मकान।
देख दुर्दशा गाँव की, है किसान हैरान।।
--
चोकर-चारा घास के, आसमान पर दाम।
गाय-भैंस को पालना, नहीं सरल है काम।।
--


ज़िंदगी भर नफ़ा नुकसान का भान न रहा जब इस बात का एहसास हुआ तो पता लगा आँखें कमजोर हो चुकीं हैं . लोगों को  कहते सुना हैं ......... कि नालायक किस्म का इंसान हूँ .  अब बित्ते भर की लियाकत होती तो भी कोई बात थी अब तो लियाकत के नाम पर कहते हैं मेरे पास अंगुल भर भी लियाकत नहीं है ऐसा कहते हैं लोग ... ! सही कहते होंगे लायक लोग ही हैं जो लायक और नालायक के बीच अच्छा फर्क तय करके स-तर्क सबको समझा देते हैं .


डियर रीडर्स , आज की इस पोस्ट में मै एक विडियो के बारे में आपको बताता हूँ.इसमें बताया गया है की आप किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस के बारे में रिव्यू लिख कर कैसे ऑनलाइन रूपए कमा सकते हैं.इसे पेड़ रिव्यू सर्विस भी कहा जाता है.इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी साइट्स हैं जो की आपको अपने प्रोडक्ट या सर्विस का रिव्यू यानि आर्टिकल लिखने के भी रूपए देती हैं.और अगर आप अपने बिजनेस को प्रोमोट करना चाहते हैं तो आप भी ऐसी पेड सर्विसेज से फायदा उठा सकते हैं.इससे काफी ज्यादा फायदा होता है ,रिव्यू लिखवाने वाले को उस रिव्यू से ऑनलाइन कस्टमर मिलते हैं ,और रिव्यू लिखने वाले को उससे रूपए मिलते हैं.

अब दीजिए आज्ञा 
 धन्यवाद

4 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...