पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 31 जनवरी 2017

564...ऐतिहासिक चरित्रों से निकलती चिंगारी

जय मां हाटेशवरी...

आज नव वर्ष के प्रथम मास  का अंतिम दिन...
मुझे तो ऐसा लग रहा है...
समय बीत नहीं भाग रहा है...
कल देश के बजट का दिन है...
...उमीद है...अच्छे दिनों की...
सब से पहले पढ़िये ये कहानी...
उसके बाद आज के लिंक...


किसी गांव में एक सेठ रहता था. उसका एक ही बेटा था, जो व्यापार के काम से परदेस गया हुआ था. सेठ की बहू एक दिन कुएँ पर पानी भरने गई. घड़ा जब भर गया तो उसे
उठाकर कुएँ के मुंडेर पर रख दिया और अपना हाथ-मुँह धोने लगी. तभी कहीं से चार राहगीर वहाँ आ पहुँचे. एक राहगीर बोला, “बहन, मैं बहुत प्यासा हूँ. क्या मुझे पानी
पिला दोगी?”
सेठ की बहू को पानी पिलाने में थोड़ी झिझक महसूस हुई, क्योंकि वह उस समय कम कपड़े पहने हुए थी. उसके पास लोटा या गिलास भी नहीं था जिससे वह पानी पिला देती.
इसी कारण वहाँ उन राहगीरों को पानी पिलाना उसे ठीक नहीं लगा.
बहू ने उससे पूछा, “आप कौन हैं?”
पूरी कहानी यहां पढ़ें...
शाम का सुनहला दामन
खंडहर हो गया वो घर
वीरान है वो गलियाँ
कोई नहीं आता गुलाबी दुप्पटा संभाले
बेचैन होकर छत पर
गली में नज़रें बचाकर कोई नहीं देखता
अब मुँडेर की तरफ़
बस शाम की ख़ूबसूरती अब भी वही है

तब और अब
है यह कैसा स्वभाव उसका
चंचल उसे बना गया
मनमानी वह करता
स्थिर कभी न हो पाता  |
मोहन को धेनु चराते देखा
काली कमली ओढ़ कर
गौ धूलि बेला में
उन्हें धुल धूसरित आते देखा |












अग्नि-परीक्षा [कविता] - डॉ महेन्द्र भटनागर
इन गंदे इरादों से
नये युग की जवानी
तनिक भी होगी नहीं गुमराह।
चाहे रात काली और हो,
चाहे और भीषण हों चक्रवात-प्रहार,
पर, सद्भाव का: सहभाव का
ध्रुव-दीप / मणि-दीप
निष्कंप रह जलता रहेगा।




बीते दिनों तुमसे बिछड़े
आज भी बाक़ी है
इस दिल में
इक विशवास की
जीत की तरह .....





जो दर्द दिए तूने
तूने क़सर न छोड़ी थोड़े भी मारने में,
पर देख बेमुरव्वत हम फिर भी जी रहे हैं !




ऐतिहासिक चरित्रों से निकलती चिंगारी
इतिहासकार प्रो. इरफ़ान हबीब भी मानते है कि यह जायसी का काल्पनिक चरित्र है और इतिहास में इस नाम का कहीं जिक्र नहीं मिलता,फिर भी ऐतिहासिक या लोकमन में बसे
चरित्रों का चित्रण करते समय जनभावना का ख्याल रखा जाना जरूरी है.बेवजह इस तरह के चरित्रों को व्यावसायिकता की आड़ में, दर्शकों की रूचि के अनुसार ढालना या विवादों
में घसीटना सही नहीं है.

अहम् ...
समय की धूल आँधियों के साथ आई तो सही
पर निशान बनाने से पहले हवा के साथ फुर्र हो गई
पर जाने कब कौन से लम्हे पे सवार
अहम् की आंच ने
मन के नाज़ुक एहसास को कोयले सा जला दिया







आज बस इतना ही...
अब चलते-चलते...
इस अधकच्चे से घर के आँगन
में जाने क्यों इतना आश्वासन
पाता है यह मेरा टूटा मन
लगता है इन पिछले वर्षों में
सच्चे झूठे, खट्टे मीठे संघर्षों में
इस घर की छाया थी छूट गई अनजाने
जो अब झुक कर मेरे सिरहाने–
कहती है
“भटको बेबात कहीं!
लौटोगे अपनी हर यात्रा के बाद यहीं !”
धीरे धीरे उतरी शाम !


धन्यवाद।


7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    सुपरिचित अंदाज में
    बेहतरीन रचनाओं का चयन
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए बहुत-बहुत आभार आपका। बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति‍।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा लिंक्स आज की सदा की तरह |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ख़ूब है आज की हलचल ... आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...