निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 23 मई 2019

1406....जो प्रकृति के बहुत करीब होते हैं....

सादर अभिवादन।
आज निकल रहा है 
ईवीएम से जनादेश,
लोकतंत्र के महापर्व में 
तल्लीन है भारत देश। 
-रवीन्द्र 

आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-   



पर सब की ऐसी किस्मत कहाँ
 भाग्यशाली ही भोग पाते हैं
ऐसे गलीचे पर सुबह सबेरे
 घूमने  का   आनंद
कम को ही नसीब हो पाता है |
यह सुख वही पाते हैं
जो प्रकृति के बहुत करीब होते हैं
उसे सहेज कर रख पाते हैं |


My photo

कल अतीत का  खिला
फूल था मैं,
और आज सूखा कांटा
वक़्त का!
फूल और काँटे
महज क्षणभंगुर आस्तित्व हैं
पलों के अल्पविराम की तरह।

निभानी होगी हमें भी, वफ़ा की वही रीत फिर.....दिलबाग सिंह विर्क 



बदनाम हो न जाए इश्क़ कहीं, मर मिटे थे लोग 
निभानी होगी हमें भी, वफ़ा की वही रीत फिर।

आदमियत पर मज़हबों को क़ुर्बान करके देखो 

वादियों में गूँजेगा, अमनो-चैन का संगीत फिर। 

"कल दे दूंगी.....कसम से".....सुधा देवरानी 


अगली सुबह भी यही हुआ सीमा यही कहते हुए आगे बढ़ गयी परन्तु आज उसकी सहेलियां भी उसके साथ थी उन सबको जब पूरी बात पता चली तो उन्हें सीमा की फिक्र होने लगी बोली; क्या जरूरत थी उसके मुंह लगने की, कसम क्यों ली तूने.....? अब क्या करेगी......?  कब तक ऐसे चला पायेगी उसे.....?    तू जानती तो है न इन लड़को को..... अब क्या होगा......  चल और लड़कियों को इकट्ठा करते हैं तब सब मिलकर लड़ेंगे इनसे...।



अपनापन होने का मतलब हैं भावनाओ के तल पर जीना और उसे अनुभव करना। इसमें गहरी तृप्ति और शांति मिलती हैं। जब तक परस्पर प्रेमपूर्ण भावनायें नहीं होगी ऐसा ही सब ओर दिखाई देगा। संबंधो में प्रेम भाव होने के साथ साथ अपने अधिकार और कर्तव्य का बोध हो तो अमीर  हो या गरीब कभी भी उनमे भावनात्मक दूरियां नहीं आयेगी। परन्तु आज चहुँ ओर भावनाये दम तोड़ रही हैं ,प्रेम आखिरी सांसे ले रहा हैं ,अपने अधिकार सभी को याद हैं परन्तु अपने कर्तव्यों का भान किसी में नहीं। सम्बन्ध टूट रहे है, घर बिखर रहा हैं ,बच्चे माँ -बाप के होते हुये भी अनाथ हो रहे हैं और बच्चो के होते हुए भी वृद्ध माँ -बाप वृद्धाआश्रम की शरण में जीने को मजबूर हो रहे है ,संजना और अनिल जैसे पति पत्नी की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही हैं।

हम-क़दम का नया विषय

आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगले गुरूवार। 

रवीन्द्र सिंह यादव 

10 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात रवींद्र भाई..
    बेहतरीन अंक..
    आभार.
    सादर.।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति बहुत सुंदर रचनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या लिखा है आदमियत पर मजहब को कुर्वान करते देखो।वादियों में गुंजेगा अमनों चैन का संगीत अन्य सभी रचनाएँ बेहतरीन हैं सभी रचनाकारों को बधाई। सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन प्रस्तुति सुन्दर पठनीय लिंक का संकलन...
    दो दिन से अतिव्यस्तता के चलते ब्लॉग पर न आ सकी....मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद रविन्द्र जी!
    सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सराहनीये प्रस्तुति ,मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद सर ,क्षमा चाहती हूँ देर से उपस्थित होने के लिए ,सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...