निवेदन।


समर्थक

गुरुवार, 16 मई 2019

1399....मत चुभाओ कभी भी किसी को भी बातों के शूल....

सादर अभिवादन। 
16 मई साल का 136 वां दिन।  पाँच साल 
पहले आज के दिन ही सोलहवीं लोकसभा 
के परिणाम घोषित हुए थे इस बार 
लोकसभा चुनाव परिणाम 
23 मई को घोषित होंगे। 
19 मई को चुनावों का अंतिम चरण है 
जब कीचड़-स्नान के बाद शाम को 
एग्जिट-पोल का परिणाम आ जायेगा। 

आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-
    
My photo
हुए आजाद हम कैसे, तू कर ले याद कुर्बानी
रहे सब अपनी सीमा में, सभी को ये हिदायत हो

सभी रहते जहाँ मिलजुल, वहीं से देश बढ़ता है
नहीं मज़हब, नहीं भाषा, ना जाति में अदावत हो


Screenshot_20190514-071110_Google

धरा से सिमट अब दिलों में खिंच  गई 
कृशकाय पगडंडी पर दौड़ते रिश्ते 
रिश्तों की चाल बदल रही। 



मत चुभाओ कभी भी
किसी को भी बातों के शूल
रिश्तों की अहमियत को समझकर
मत पालो किसी के लिए भी नफ़रत
नहीं तो रह जाएगी रिश्तों की लाश धरी
समय में न संभले तो हो जाएगी देरी


मेरी फ़ोटो

सबकी समझ में आ गया था कि इंसान रहेगा तभी धर्म-जाति भी रह पाएगी ! मुफ्तखोरों को भी इशारों से समझा दिया गया कि मेहनत सभी को करनी पड़ेगी, यह नहीं कि सरोवर की काया पलट हम करें और तुम बर्तन ले कर पानी भरने आ जाओ ! अब अवाम ''देखिएगा, हम करेंगें, हमें करना है'' की बजाए ''देखें, हमने कर दिया है'' कहने वाले को तरजीह देने लगी ! सरोवर को हरा-भरा बनाने में एकजुट हुए लोगों का साथ, जाति, धर्म, भाषा को पैमाना बनाए बिना दिया जाने लगा। वृक्ष लगाए जाने लगे, लोगों को काम मिला, रोजगार बढ़ा। जेब में पैसा आया तो खुशहाली बढ़नी ही थी ! चौधरी भी समझ गए थे कि हवाबाजी के दिन हवा हुए ! अब कुछ ना किया तो चौधराहट तो क्या बिस्तर भी गोल करना पड़ जाएगा !       


मेरी फ़ोटो

कल जब परिवार टूट रहे थे तो ऐसी सुविधाएँ नहीं थीं। आज तो ऐसे सेंटरखुल चुके हैं कि जो आप को आपकी समस्याओं के बारे में सही दिशा निर्देश देने केलिए तैयार हैं और आपको उनमें समाधान भी मिल रहा है। फिर क्यों भटक करइस संस्था को खंडित कर रहे हैं। इसको बचाने में ही सभ्यता, संस्कृति और समाज की भलाई है। 


चलते-चलते इस सप्ताह के विषय के बारे में-
हम-क़दम का नया विषय



 आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगले गुरुवार। 

रवीन्द्र सिंह यादव      

14 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई रवीन्द्र जी
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक से बढ़ कर एक सारगर्भित रचनाओं का संकलन। सादर नमन ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन हलचल का सुन्दर संकलन, टूटते परिवार और रिश्तों का गहन चिन्तन , समाज का विचारणीय विषय समेटे हुए |
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात
    मत चुभाओ कभी भी किसी को बातों के शूल।
    वाह भाई क्या लिखा है ।सराहनीय सुविचार।
    बहुत ही शिक्षाप्रद प्रस्तुति।सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । सभी लिंक्स अत्यन्त सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. भुमिका जानकारी युक्त कसैले तंज के साथ परिणाम जो भी हो भुगतना ही है।
    कुएं और खाई वाली स्थिति।
    जनता के लिए एक ही जुमला.……
    आसमां से गिरा खजूर पर अटका
    रहा तो आखिर लटका का लटका ।

    बहुत सुंदर प्रस्तुति शानदार लिंकों का संकलन सभी सामग्री उत्तम अभिनव।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहरतरीन प्रस्तुति ,सादर नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन प्रस्तुति मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार रवीन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह!!रविन्द्र जी बेहतरीन प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  10. पंचामृत में सम्मिलित होने का अवसर प्रदान करने के लिए आभारी हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. सारगर्भित भूमिका के साथ सराहनीय रचनाओं का संकलन है आज के अंक में..रवींद्र जी सुंदर अंक।

    उत्तर देंहटाएं
  12. शानदार प्रस्तुतिकरण...उम्दा लिंक संकलन..

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...