निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 12 अक्तूबर 2017

818...बेटों जैसे दीजिए, बेटी को अधिकार...

सादर अभिवादन 
कल एक समाचार पढ़ा -"फेसबुक पोस्ट के कारण 18 वर्षीय युवक को 42 दिन जेल में काटने पड़े।"
  सोशल मीडिया का इस्तेमाल लोग समझदारी से अपनी वैचारिक स्वतंत्रता को अभिव्यक्त करने के बजाय विभिन्न वादों की वकालत और नफ़रत फैलाने में भी कर रहे हैं। बुज़ुर्गों ने हमें कुछ कहावतें दी हैं बड़ी सीख के साथ  जिनमें से एक है -"बन्दर के हाथ में उस्तरा" दूसरी है -"बन्दर के हाथ में मशाल "...... 
अंतरजाल पर एक शब्द टाइप करते ही आप ग्लोबल रायटर हो जाते हैं अतः इस आज़ादी से जुड़ी तमीज़, जवाबदेही, अंतर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय क़ानून,स्थानीय हालात की बाध्यताएं  और न्यूनतम सामाजिक तहज़ीब को समझते हुए आगे बढ़ना ज़रूरी है। 

चलिए अब आपको ले चलते हैं आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर -  

पढ़िए लैंगिक समानता के विचार को आधार देता आदरणीय शास्त्री जी का  एक सामयिक दोहा गीत - 

"बेटों जैसे दीजिए, बेटी को अधिकार"..... डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

पुरुषप्रधान समाज मेंनारी का अपकर्ष।
अबला नारी का भलाकैसे हो उत्कर्ष।।
कृष्णपक्ष की अष्टमीऔर कार्तिक मास।
जिसमें पुत्रों के लिएहोते हैं उपवास।।
ऐसे रीति-रिवाज कोबार-बार धिक्कार।
बेटों जैसे दीजिएबेटी को अधिकार।।

11 अक्टूबर 1942 को महाकवि हरिवंशराय बच्चन और श्रीमती तेजी बच्चन के घर जन्मे सदी के महानायक का ख़िताब पा  चुके अमिताभ बच्चन जी कल  75 वर्ष के हो गए। इस उम्र में भी उनकी सक्रियता युवा पीढ़ी के लिए चुनौती बनी हुई है।   आदरणीया अभिलाषा जी ने समर्पित की है एक भावप्रवण रचना-

ज़िन्दगी, तुम्हारे लिए!.... #ये मोहब्बतें (अभि जी )


अपने छुवन की एक नूरानी रात दे दो  हमें
घुट रही तुम बिन बेसबब ज़िन्दगी
सियाह रातें हैं दिन बस एक उलझन
तुम्हारे आने की खुशी में महका है ये मन
वो घूँट मुक़द्दस खुशियों के पी लेने दो  हमें।

पेश है आदरणीया मीना  भारद्वाज जी की तारों भरी रात (विभावरी) सी  चमकती हुई  आकर्षक अर्थपूर्ण हाइकु-श्रृंखला- 

“विभावरी” (हाइकु)……........ मीना भारद्धाज


सोया वो चन्दा
गुप चुप से तारे
सोती रजनी

भोर का तारा
दूर क्षितिज पर
ऊषा की लाली

जीवन की दिशा यदि सकारात्मता की ओर राह पकड़ ले तो जीवन का अर्थ और उद्देश्य ही बदल जाता है।  पढ़िए शिक्षाविद आदरणीय राजीव कुमार झा साहब की प्रेरक वैचारिक प्रस्तुति - 

जीवन की दिशा….राजीव कुमार झा

जीवनदान मिलने के बाद स्ट्राउड ने आत्मचिंतन किया और पाया कि अपने क्रूर और शराबी पिता के कारण ही वह चिड़चिड़ा और आक्रामक बन गया था.उसकी मां के साथ विश्वासघात कर उसके पिता ने उन दोनों को छोड़ दिया था. स्ट्राउड ने अब भले व्यक्तियों की भांति जीवन बिताने का निश्चय किया .वह अपनी कोठरी में ग्रीटिंग कार्ड चित्रित करता और मां के माध्यम से बाजार में बिकने के लिए भेज देता.

 जज़्बातों को बयां करने का जुदा अंदाज़ हासिल कर चुके ग़ज़लकार आदरणीय लोकेश नशीने जी की एक बेहतरीन ग़ज़ल पेश है आपकी सेवा में- 

ख्वाब की तरह से.....लोकेश नशीने

तल्ख़ एहसास से महफूज़ रखेगी तुझको
मेरी तस्वीर को सीने से लगाए रखना

ग़ज़ल नहींहै ये आइना--हयात मेरी
अक्स जब भी देखना एहसास जगाए रखना


आज बस इतना ही। 
आपके सारगर्भित सुझावों ,मन को आल्हादित करती प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा में।
फिर मिलेंगे।  

16 टिप्‍पणियां:

  1. भाई रवीन्द्र सिंह यादव जी....
    आप की भूमिका में आपने जो संदेश दिया है, वो आज के नवयुवकों के लिये बहुत ही उपयोगी है, अगर हम सोशल मिडिया को देखे तो ये हमारे लिये वर्दान भी है, अभिशाप भी। ये हम पर निर्भर है कि हम इस का उपयोग कैसे करते हैं।
    उपयोगी लिंकों के साथ सुंदर चर्चा की है आपने.....

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात रवीन्द्र जी..
    अच्छी रचनाएँ पढ़वाइ आपने
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचनाओं का गुलदस्ता
    उम्दा संकलन
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर‎ लिंक संयोजन. मेरी रचना ‎को संकलन में स्थान देने के लिए हृदयतल से आभार रविन्द्रसिंह जी .

    जवाब देंहटाएं
  6. शुभ प्रभात रवींद्र जी,
    बहुत ही सारगर्भित संदेश दिया है।बहुत ही प्रभावशाली एवं सटीक भूमिका लिखी है आपने।आपकी बातों से हम भी सहमत है।
    बहुत सुंदर लिंकों का का संयोजन है।
    सभी रचनाकारों को मेरी बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति,रवींद्र जी.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  8. Ravindra ji, bahut-bahut dhanyawad apka mujhe sammaniya sthan dene ke liye. Collection har bar ki tarah aj bhi bahut achha hai.
    Sadhuwad sabhi rachnakaron ko.

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह बहुत बढ़िया प्रस्तुति रवींद्र जी ।

    जवाब देंहटाएं
  10. हलचल करती शानदार प्रस्तुति। सभी रचनाकारों को बधाइयाँ।

    जवाब देंहटाएं
  11. आदरणीय रविंद्र जी आज का अंक कई मायनों में विशेष है। एक तरफ आपने संसाधनों की महत्ता पर बारीक़ी से प्रकाश डाला है और वहीं सुन्दर लिंको का चयन। प्रस्तुति काबिलेतारीफ़ ,
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर लिंक संकलन....बेहतरीन प्रस्तुतिकरण...

    जवाब देंहटाएं
  13. सभी रचनाएँ पढ़ीं । सुंदर सूत्र संकलन । सादर धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...