पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 5 जनवरी 2017

538...कविता बकवास नहीं होती है बकवास को किसलिये कविता कहलवाना चाहता है-

जय मां हाटेशवरी...

हम अपने बच्चों को...
मुगलों का इतिहास रटाते हैं...
सिख गुरुओं को भूलाकर...
अकबर को महान बताते हैं...
बच्चों को अगर पढ़ाया  होता....
इतिहास सिख गुरुओं का...
भारत का हर बच्चा होता...
बंदा सिंह भादुर सा...
सिखों के दसवें और अंतिम गुरु, गुरु गोविंद सिंह का प्रकाशोत्सव आज 5  जनवरी 2017  को मनाया जा रहा है। इनका जन्म 1666 ई में बिहार के पटना शहर में हुआ था।
पिता गुरु तेग बहादुर की मृत्यु के बाद 11 नवंबर 1675 को वे गुरु बने। उन्होंने 1699 में बैसाखी के दिन खालसा पंथ की स्थापना की।
जब इनके चार पुत्र शहीद हो गये तो...
माता गुजरी उदास थी और गुरु गोविंद सिंह जी ने उनसे दुखी न होने के लिये कहा...
उनसे केवल यही कहा...
सारे भारत की जंता ही हमारी संतान हैं...
  इन पुत्रन के शीश पर वार दिये सुत चार ।।
चार मुए तो क्या हुआ जीवत कई हजार ।।
अब पेश है...आज की चयनित कड़ियां...
कविता बकवास नहीं होती है बकवास को किसलिये कविता कहलवाना चाहता है-
कहीं
ना कहीं
कुछ ना
कुछ ऐसा
 हो जाता है
जो
ध्यान
भटकाता है
और
लिखना
लिखाना
शुरु करने
से पहले ही
कभाड़ हो
जाता है
राजनीति का खेल
कौन तुम्हारा मित्र है, याद किसे उपकार
अब सब उसके साथ हैं, जिसकी है सरकार !
सत्ता का यह रूप भी, है कितना बलवान
उगते सूरज को सभी, करते मिले प्रणाम !
श्रीराम का लक्ष्मण को अयोध्या लौटाने के लिए प्रयत्न करना
नहीं सुमन्त्र हैं साथ हमारे, रात्रि प्रथम जनपद के बाहर
उत्कंठित किंचित न होना, नगर की सुख-सुविधा न पाकर
तज आलस्य आज से हमको, रात्रि में जागना होगा
योगक्षेम सीता का क्योंकि, हमको ही पालना होगा
तिनकों, पत्तों की शय्या पर, संग्रह किया जिन्हें हमने ही
बिछा के भू पर सो लेंगे हम, फिर लक्ष्मण से यह बात कही
दुःख से सोये होंगे राजा, किन्तु सुखी होगी कैकेयी
महाराज को हत न कर दे, भरत को आया देख कहीं
फूल (हाईकू )
फूलों से सजी
कौमलांगी दुल्हन
सजा मोगरा |
लड़कियों के घर नहीं होते.........शकुंतला सरुपरिया-
बड़ी नाजुक मिजाजी है, बड़ा मासूम दिल इनका
जो थोड़ी खुदगरज होतीं, किसी के डर नहीं होते
कभी का मिलता हक इनको सियासत के चमन में भी
सियासत की तिजारत के जो लीडर सर नहीं होते
लड़कियों की धड़कनों पे निगाहें मां की भी कातिल
कोख में मारी न जातीं जो मां के चश्मेतर होते  

आज बस इतना ही...
कल उमीद है...
काफी समय बाद भाई विराम सिंह जी...
अपनी पसंद पेश करेंगे...
धन्यवाद।

















3 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति कुलदीप। आभार 'उलूक' के सूत्र 'कविता बकवास नहीं होती है बकवास को किसलिये कविता कहलवाना चाहता है' को आज की हलचल का शीर्षक के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सूत्र कुलदीप जी ! 'राजनीति के खेल' को आज की हलचल में शामिल करने के लिए आपका हृदय से आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...