निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 10 नवंबर 2018

1212... निराशा



Image result for निराशा पर कविता

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

यम से पंगा-दंगा-चंगा सब हो गया
अब समय आ गया सूर्य से गुहार लगाने की
यानी कल से छठ शुरू हो रहा है
पूरे देश में बिहारी फैल चुके हैं अत:
छठ पर्व से सभी परिचित होंगे
पूरे विधि-विधान छत्तीस घंटे का उपवास
सभी को कष्ट से ज्यादा
परेशान करता है डर/भय
परन्तु जीतता नहीं
निराशा

Image result for निराशा पर कविता

पूरी कालोनी, कालोनी
जगमगाने से पहले ही खुश हो जाती है
उजाला होना तो दूसरा चरण है
बाद का चरण है
बिजली आने के बाद का
बत्ती के जल जाने से पहले का,

Related image

आशा-निराशा
सुख के कुछ फूल चुनने लगती हूँ…
प्रयास करती हूँ, विफल हो जाते हैं,
सहम जाती हूँ,
विफलता के अन्धकार के उस पार,
रोशनी की किरण ढूँढने लगती हूँ…

Image result for निराशा पर कविता

आशा और निराशा
गिर-गिर फिर उठते चले
अब आज उस अतुल श्रम का प्रतिफल
हमने ये पाया है
कि खुद उस व्योम का स्वर्ग इस धरा पर
हमारे लिए उतर आया है

Image result for निराशा पर कविता

निराशा के नाम
मेरी मुहब्बत बेकार है...
बीते कल के खाने की तरह॥
मेहमान जो आते हैं कभी,
तो लौट के जाने की तरह...
मगर मैं जानता हूँ,

Image result for निराशा पर कविता

मुक्तक संग्रह
चरागों ने धुआँ छोड़ा बहुत पर रौशनी कम दी,
घटा छायी जो चंदा पर तो उसने चाँदनी कम दी,
न देखो तुम मेरी मजबूरियों की वजह भी कुछ है,
जहाँ की फिक्र तो दे दी, खुदा ने आमदनी कम दी।

><
Related image

फिर मिलेंगे...
हम-क़दम का चौंवालिसवाँ विषयः
कैसी रही दीपावली (अनुभव)
प्रविष्टि 10 नवम्बर यानी आज तक आनी चाहिए
प्रकाशन 12 नवम्बर को...



8 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी..
    सादर चरणस्पर्श..
    पर्व की शुभकामनाएँ
    जानदार प्रस्तुति...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर प्रस्तुति शानदार रचनाएं

    जवाब देंहटाएं
  4. हमेशा की तरह बहुत ही लाज़वाब प्रस्तुति है दी।
    सभी रचनाएँ एक से बढ़कर एक हैं।
    एक प्रेरणादायक अंक.पढ़वाने के लिए आभार दी।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  6. शानदार प्रस्तुति मेहनती और अन्वेषण दृष्टि दी आपकी।
    सभी रचनाऐं बहुत सुंदर रचनाकारों को बधाई ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...