निवेदन।


समर्थक

शनिवार, 3 नवंबर 2018

1205.. पंकज सुबीर




एकल


पंकज सुबीर को 'राजेन्द्र यादव हंस कथा सम्मान'. इस वर्ष का प्रतिष्ठित 'राजेन्द्र यादव हंस कथा सम्मान' सीहोर के कहानीकार पंकज सुबीर को प्रदान किया गया


सभीको यथायोग्य
प्रणामाशीष
कल शाम ब्लॉग के बादशाह गज़ल गुरु पंकज सुबीर से भेंट हुई



पंकज
बहुमुखी प्रतिभा के धनी, हिन्दी ब्लॉग जगत के लोकप्रिय ग़ज़ल गुरू – माट्साब – पंकज सुबीर को उनके उपन्यास 'यह वो शहर तो नहीं' पर ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार प्राप्त हुआ है


हम-क़दम का तैतालिसवाँ अंक
एक चित्र है इस बार
इसी चित्र को देखकर आपको कविता बनानी है
प्रेषण तिथिः 03 नवम्बर 2018
प्रकाशन तिथिः 05 नवम्बर 2018
रचनाएँ प्रारूप में ही आनी चाहिए

11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंकज सुबीर जी से परिचय करवाने के लिये आभार। सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज सुबीर जी का विस्तृत परिचय बहुत अच्छा लगा।
    हमेशा की तरह बेहद सुंदर अंक दी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सदैव की भांति अति सुंदर । कृपया हमकदम का प्रेषण लिंक साझा करें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छा लगा सुबीर जी के बारे में जानकर

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सुबीर के बारे में बहुत अच्छी जानकारी, हार्दिक बधाई उन्हें!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सादर आभार आपका आदरणीय "हमकदम" का लिंक साझा करने हेतु 🙏🙏

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...