निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

मंगलवार, 29 सितंबर 2015

भूकंप में नहीं गिरते घर....पृष्ठ तिहत्तर

सादर अभिवादन करती है यशोदा




आज अतीव हर्षित हूँ
पाँच लिंकों का आनन्द के

नए चर्चाकार के रूप में 
आदरणीय संजय भास्कर का
स्वागत करती हूँ



चलिए आज सीधे 
पसंदीदा रचनाओं की ओर....


भूकंप में नहीं गिरते घर 
गिरते हैं मकान
मकान ही नहीं गिरते
गिरती हैं उनकी छतें
छतें भी यूँ ही नहीं गिरती


मैं कौन हूँ. 
मेरे चेहरे से 
जो नाम जुड़ा है 
वो किसका है. 
मेरे गले में पड़ी 
नाम की तख्ती पे 
क्या दर्ज है आखिर।


निकले हैं दीवार से चेहरे 
बुझे बुझे बीमार से चेहरे 

मेरे घर के हर कोने में 
आ बैठे बाजार से चेहरे 


आप तो शराब में आकर अटक गए. 
चलो शायद मंत्रीजी चाहते हैं 
दिल्ली वाले झूम बराबर झूम की तरह रहे. 
यहां शराब को बैन करने की मांग होती रही है, 
लेकिन ऐसा लगता है कि मंत्री जी चाहते हैं 
पी ले पी ले ओ मोरी जनता.


अब वक़्त वो नही है जो रिश्तों को रखे कायम।
ज़िंदगी की बढ़ रही है जो रफ़्तार धीरे धीरे।।

आबाद कर दिया अपने बच्चों को उसने लेकिन।
बर्बादी के आ गए उसकी आसार धीरे धीरे।।


तेरे जिस्म में रुह कितना आजाद है हमसे पूछ
किसी मसले का क्या निजाद है हमसे पूछ

तुझे क्यों लगा कि उसका एहसान है तेरा होना
तेरा होकर जीना उसका मफाद है हमसे पूछ


सनम जब तक तुम्हें देखा नहीं था
मैं पागल था मगर इतना नहीं था

बियर, रम, वोदका, व्हिस्की थे कड़वे
तुम्हारे हुस्न का सोडा नहीं था


मतला-
लौट जो आए तिरे दरबार से
मत समझना हम हुए लाचार से

हुस्ने मतला-
नाव तो हम खे रहे पतवार से
क्या बचा पाएँगे इसको ज्वार से





आज्ञा दें यशोदा को..
फिर मिलेंगे..













5 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी कड़ियाँ मिलीं। मुझे भी शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यहां तक सब ने साथ दिया....
    आभार सभी का...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर लिंक सयोजन. मेरी रचना को स्थान देने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय भास्कर जी का स्वागत है । बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...