पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 7 सितंबर 2015

विरोधों की सभी मानव जंजीरें टूट जाती हैं.....पृष्ठ इक्कावन

मेरी 
तमन्ना न थी 
तेरे बगैर रहने की .... 
लेकिन
मज़बूर को ,
मज़बूर की ,
मजबूरिया.. 
मज़बूर कर देती है ..!!!!
-यशोदा उवाच..

शनिवार को भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ
और रविवार से एक सप्ताह तक 
नन्द बाबा के घर में उत्सव चलता रहेगा....

आज की रचनाओ की ओर बढ़ें.....

संस्कृत में हास्य व्यंग्य - हिंदी भाषा टीका सहित
इयम् एकविंशतिः शताब्दी
पश्य सखे! आगता भारते।।
श्वानो गच्छति कारयानके
मार्जारः पर्यङ्के शेते,
किन्तु निर्धनों मानवबालः
बुभुक्षितो रोदनं विधत्ते।

हिन्दी अनुवाद...
भारत में आ रही साथियों
देखो इक्कीसवीं शताब्दी।।
कुत्ता चलता कार यान में
बिस्तर पर बिल्ली सोती है।
बेचारे गरीब की सन्तति
किन्तु भूख सहती रोती है।।


मुकेश अम्बानी के एक फैमिली फ्रेंड ने कहा :- 
"इसीलिए मैं मुकेश अम्बानी के घर नहीं जाता" 
एक बार मैं एंटीलिया गया,,,, नीता भाभी बोलीं--- 
"क्या लेंगे भाईसाहब, फ्रूट जूस...सोडा...चाय...कॉफी... हॉट चॉकलेट...इटैलियन चाय या फ्रोज़न कॉफी ?" 
उत्तर--- "चाय ले लूँगा, भाभी जी" 


काला चश्मा लगा 
कर सपने में अपने
आज बहुत ज्यादा 
इतरा रहा है 
शिक्षक दिवस 
की छुट्टी है खुली 
मौज मना रहा है 


दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन की तैयारियां जोर शोर से शुरू
दसवें विश्व हिंदी सम्मेलन में समकालीन मुद्दों और विषयों पर विचार-विमर्श किया जाएगा तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, सूचना प्रौद्योगिकी, प्रशासन और विदेश नीति, विधि, मीडिया आदि के क्षेत्रों में हिंदी के सामान्य प्रयोग और विस्तार से संबंधित तौर तरीकों पर चर्चा होगी। सम्मेलन का मुख्य विषय ‘हिंदी जगत: विस्तार एवं संभावनाएं’ है।


कितनी क्षीण पड़ जाती है हमारी आवाजें
विरोधों की सभी मानव जंजीरें टूट जाती हैं 
और हम भुला देते है 
उन सभी कारणों को 
जो भय उपजाते हैं हमारे भीतर

आज्ञा दें दिग्विजय को

और सुनें ये गीत...मेरे जन्म से पहले का है
















5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...

    सुंदर संकलन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर हलचल । आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के सूत्र '‘उलूक’ व्यस्त है आज बहुत एक सपने के अंदर एक सपना बना रहा है... ' को पाँच में स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Are waaah.......anupam links sanyojit kiye hain aapne.......badhaiiii

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी पोस्ट अच्छी हैं
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...