निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

शनिवार, 5 सितंबर 2015

शिक्षक दिवस की और जन्माष्टमी की भी बहुत बहुत बधाई



दो दो महत्वपूर्ण तिथि एक दिन
शिक्षक दिवस तो पूरा दिन गुरु आराधना कर लेते हैं
कृष्ण ज्ञान के भण्डार हैं
रात्री जन्म है तो रात उनके लिए रखते हैं
भादो की अँधेरी रात संग सितारों की चनेरी
अशेष शुभकामनायें




जग जाहिर हैं
जो ज़मीर ही गुरु हो तो
 जागरूक होने में
कोई बाधा का सामना हो
जरूरी नहीं

कविता जी की लेखनी

कान्हा-छवि को बाँधती राखी
साधती मन को नारी
गुहार लगाती संघ से रक्षा करो
चीर का मूल्य कोई नहीं जान रहा आज

अशोक जी की लेखनी

शिक्षक महान तब बनते हैं जब सच्चा
शिक्षा + अर्थी मिले
माता की गोद से सीखी बात
समाज उत्थान में सहायक हो

अनुराग जी की लेखनी

राम का किया वादा
श्याम ने पूरा किया रच रास लीला
लीला को सब लेते अपने अपने सुविधानुसार
मोहे बाल लीला सोहे

सुनीता जी की लेखनी




फिर मिलेंगे
तब तक के लिए
आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव





4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    शिक्षक दिवस
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी
    की संयुक्त शुभकामनाएँ
    मैं भी इसी बेहतर
    और..
    अविस्मरणीय
    प्रस्तुति की
    प्रतीक्षा कर रही थी
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ प्रभात
      स्नेहाशीष छोटी बहना

      हटाएं
  2. शिक्षक और कन्हैया दोनो के दिवस पर बधाई । सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!
    सभी को जन्माष्टमी-सह-शिक्षक दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...