समर्थक

सोमवार, 20 जुलाई 2015

चलिए आज चलते हैं ग्रेट ब्रिटेन...

आज मात्र बारह घरों में दस्तक दी पर ताज्जुब की सैंतीस व्यू हुए
जैसे-जैसे फॉलोव्हर बढ़ेंगे वैसे-वैसे व्यू भी बढ़ेगा
चलिये चलते हैं आज के पांच लिंक्स की ओर....

ब्रिटेन में १३ साल के बाद कुछ सिमित घंटों एवं बच्चों के हित में 
कुछ शर्तों के साथ उन्हें पार्ट टाइम काम करने या कार्यानुभव लेने की इजाजत है. अत: इन बच्चों को इनकी उम्र के मुताबिक स्कूल के समय और पढाई के अलावा उनकी रूचि और आगे के कैरियर से सम्बंधित असली ऑफिस या काम की जगह पर जाकर कुछ समय कार्यानुभव लेने के लिए उत्साहित किया जाता है. 


मुझे आकाश भी खुल कर खुला दे

कदम दो साथ मिल कर चल न पाया
वफ़ा के उस पुजारी को भुला दे


टपटप टपकतीं झरझर झरतीं
धरती तरवतर होती
गिले शिकवे भूल जाती
हरा लिवास  धारण करती | 


व्यथित हूँ,
क्षुब्ध हूँ, 
क्या हृदय ही जीवन है ?


पाने में उम्र गुज़र जाती है 
इतनी सी बात खुद भी समझो 
और औरों को भी समझाओ

आज मेरी पसंद के पांच लिंक पेशे-खिदमत है

लेकर के मेरा नाम मुझे कोसता तो है,
नफरत ही सही, पर वह मुझे सोचता तो है…

इज़ाज़त दें
यशोदा










11 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा लिंक्स व् संयोजन उनका यशोदा जी |
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  2. कारवां यूँ ही बढ़ता रहेगा ...
    सुन्दर हैं सभी लिंक्स ... आभार मेरी ग़ज़ल को भी जगह देने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. देरी के लिए माफ़ी.अब लिंक्स पर जा रही हूँ मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिगम्बर जी का टिप्पणी बॉक्स नहीं खुलता है बहुत बार पहले भी कोशिश कि है बस ओपनिग ही लिख कर आता है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गूगल+ का टिप्पणी डब्बा ज़रा देर से खुलता है दीदी

      हटाएं
    2. मेरा अनुभव भी रचना जी जैसा ही है. दिगंबर जी के यहाँ टिप्पणी नहीं हो पाती काफी समय से. उनका मैल आई डी भी नहीं है जिससे कि उन्हें सूचित किया जा सके.

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. दीदी....
      आपका ये आलेख
      मैं कल नवभारत के रविवारीय विशेषांक में भी पढ़ी
      और कल ही आपका ये ब्लाग भी दिखा
      अच्छा लगा...आप आई यहाँ
      सादर...
      ..यशोदा

      हटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...