निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

अभिनंदन


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


बर्फ़ की सफ़ेद चादर पर जगह -जगह
ख़ून के धब्बे!
उसी लहू के कुछ छींटे,
कुछ लिख गए हैं इन पर भी!
मोती-जड़ी नीलम - घाटी में उगे थे कभी,
बारूदी धुएँ से झुलसे,
उड़ रहे हैं सब तरफ़
उन्ही चिनारों के पते
~प्रतिभा सक्सेना~

काव्य मन्दिर


स्वामीनारायण अक्षरधाम,समूचा देख मन्त्र-मुग्ध थी |
शिल्प-कला कौशल की, यह कृति अनुपम अदभुत थी ||

आधुनिक युग को प्राचीन युग से, प्रभावित यहाँ देखा |
आयें यहाँ तो ज्ञानचक्षु भी, खुल जायें अनेकों का ||


जिन्दादिली


शत्रुओं की घेराबंदी में जब पल-
पल मौत मेरी ओर बढ़
रही थी, मैंने
उसी समय निश्चय कर लिया था कि यदि मैं
जीवित बच गया तो अपने जीवन के
हर पल को जिंदादिली और
खुशी से जिऊंगा।


हमिंग बर्ड


एक चहचहाहट सुनी
एक पल को लगा भ्रम हो मेरा
बाहर जाकर देखा
एक विलुप्तप्राय प्रजाति की नन्ही सी चिड़िया 'हमिंगबर्ड'
मेरे आँगन में फुदकती हुई कलरव करती नज़र आई



कितनी बार


जाने कितने बार मुझे इस मृत्यु ने आलंगन किया
जाने  कितने बार मैंने इस मृत्यु का वरन किया
अब थक गया हूँ मैं प्रभु इस भवसागर की धार में
अब बस करो हे  प्रभु इस भवसागर की जंजाल से



अभिनंदन


बीत गई रात
रात बहुत गहरी थी
अंधेरा था घना
इतना घना
बहुत बार कर गया
मन अनमना



प्रेमगीत

शीतल थाप पवन की लेकर
महकती भाप उपवन की लेकर
हम तेरी बातो में खो जाते हैं ।
और बस मंद मंद मुस्काते हैं ।
ओस में भीगा विपुल पात
उजियारे की ये दिव्य रात
सिरहन सी कर जाते हैं ।



कल्पवृक्ष


कुछ ऐसे भी किस्से हैं
लौट आते हैं जिनमें वे
जो गए थे नई दुनिया में,
आखिर बदली सम्भावनाओं का
असर गहरा पड़ता है
दूर तक फैलता है
भयावह लगता है।


फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव


5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    चरण स्पर्श
    अच्छी रचनाएँ पढ़वाई आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है वाह्ह बेहतरीन रचनाएँ पढ़वाई आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी रचनाऐं हैं। चिंतनीय लगी।

    बस चल रही है जिंदगी, उस रब के नाम पर ।
    उम्मीद है सुबह की, भरोसा है शाम पर ।।

    घर की दर-ओ-दीवार पर, ये मेहरबां है आसमां,
    कोई छत नहीं है दोस्तो , मेरे मकान पर ।।.............................
    पूरी पढें http://manishpratapmpsy.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...