निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

शनिवार, 20 फ़रवरी 2016

218 ..... शान्ति/सीपी




Shanti Purohit
7 फ़रवरी को 08:44 अपराह्न बजे ·
जन्म में जन्म
बार बार मर के
लेता मनुज

शान्ति पुरोहित



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

ब्लॉग जगत , फेसबुक की दुनिया सभी जगह से मौन हो गई सीपी ..... सब समझते थे लेखन में सोच के संग शब्दों की कारखाना है सीपी ..... फेसबुक पर चल रहे लगभग 50 समूह से ज्यादा ही समूहों की सदस्या थी .... मैं अक्सर उनसे पूछती कैसे इतने समूह में हर विधा पर लिख लेती हो ..... उसे जैसे हडबडी हो ..... मैं नाराज़ भी होती .... ये क्या केवल अपना चिपका भाग लेती हो .... दूसरों के लिखे पे ना like करती हो और ना comment ..... सब फालतू में बैठे हैं , जो केवल तुम्हारा पढ़ें .... मज़ा तब और आता जब उनके पोस्ट किये पे किसी दुसरे का like comment नहीं होता तो बहुत हक से कहती ,मेरे पोस्ट को सबने क्यूँ अनदेखा किया ,एडमिन से शिकायत करती , सबको tag करती .... किसी इवेंट में अगर वो विजेता नहीं होती तो उसे बहुत दुःख होता , कोई जीते ,मैं नहीं न जीती दीदु .... जैसे उसे हडबडी हो ,जल्द  सब पा लेने का .... हडबडी ही तो थी ,साहित्य जगत को लेखन से समृद्ध करने का ..... आज उनके जाने से साहित्य जगत को बहुत बड़ी क्षति पहुंची है

ज्योति - कलश

ब्लॉग जगत में सीपी का योगदान

शान्ति पुरोहित

फेसबुक की दुनिया में




कविता कहानी

जय विजय पत्रिका में



सम्मान की दृष्टि

सच का हौसला में


हाइकु

हस्ताक्षर पत्रिका




हाइकु लिखना जब से शुरू की नशा हो गया उसे हाइकु की दीवानी




http://matrubharti.com/book/3214/



हर पल जेहन में हो .... कैसे विदा लोगी

फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए

आखरी सलाम

विभा रानी श्रीवास्तव

2 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...