पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 20 दिसंबर 2016

522...कब्र खोदने से सुकून नहीं मिलता ....



जय मां हाटेशवरी...

आज मन कुछ खिन्न था...
पर प्रस्तुति बनानी आवश्यक थी...
तभी सब से पहली रचना....
मुझे श्री गीता जी के श्लोक पढ़ा गयी...
फिर तो आनंद आ गया प्रस्तुति बनाने में...
जीवन्मुक्त शांत सदा है ज्ञानी, विमल ह्रदय सर्वत्र है रहता|
हो विहीन वासनाओं से, समरस सभी परिस्थिति में रहता||
तन मन से सब कर्म है करते, इच्छा-द्वेष रहित वह रहता|
स्थिति जिसका चित्त ब्रह्म में, जीवन्मुक्त सदा वह रहता||
कभी न निंदा या स्तुति करता, न हर्षित या क्रोधित होता|
ग्रहण त्याग से मुक्त है रह कर, अनासक्त वह मुक्त है होता||

अग्नि(हाइकू )
-----
साथ पुष्प के
कंटक भी जलाते
बच  न पाते |
अग्नि मन की
बेचैन किये जाती
शान्ति न रहती |
----
Asha Saxena


मैं तो रही बुझाय, आग पर डालूं पानी
पानी भर कर चोंच में, चिड़ी बुझाये आग ।
फिर भी जंगल जल रहा, हंसी उड़ाये काग।
हंसी उड़ाये काग, नहीं तू बुझा सकेगी।
कहे चिड़ी सुन मूर्ख, आग तो नहीं बुझेगी।
किंतु लगाया कौन, लिखे इतिहास कहानी।
मैं तो रही बुझाय, आग पर डालूं पानी ।।
----
रविकर

कब्र खोदने से सुकून नहीं मिलता ....
-----
जो मिलें हैं ये पल नसीब से
वो कुछ तुम्हारे हैं और कुछ हमारे !
न डालो फ़िक्र की राख अब तुम इनपे
कि अब वक़्त नहीं है फिर धूमिल होने का !!
------
Pratibha Verma

















गाजर-मूली के दही बडे
-----
क्या आपको भी दही बडे पसंद तो है, लेकिन तले हुए होने से आप थोड़ा सोचने लग जाते है कि बनाए या न बनाए, खाए या न खाए... तो आइए मैं आज आपको गाजर-मूली के दही
बडे बनाने की रेसिपी बताती हूं जो बिना तले बफ़ा कर बनाए जाते है। और गाजर-मूली के बने हुए होने से सेहतमंद भी होते है। क्योंकि गाजर से आंखों की रोशनी बढ़ती
है, मधुमेह का खतरा कम होता है और मूली से कैंसर रिस्क कम होता है एवं किडनी स्वस्थ रहती है। तो आइए, बनाते है...गाजर-मूली के दही बडे।
सामग्री-
-----
 Jyoti Dehliwal

वन्दे मातरम्
-----
मगर
तुम्हारे रगों में दौड़ता खून
अगर देश के काम न आया
तो फिर
तुझमें और कोढ़ अपंग दूर्बल मानव में
कोई फर्क नहीं
-----
shambhu

आधार कार्ड और कैशलेस ट्रांजैक्शन
आधार कार्ड में आपकी पूरी डिटेल दर्ज होती है. देश भर में लोगो को आधार कार्ड जारी करने वाले यू आई डी ए आई के पास लोगो के फिंगरप्रिंट और आँखों की पहचान यानि
आईरिस डाटा मौजूद होगा. लेन देन करने वालो का आधार नंबर बैंक से लिंक होना जरूरी होगा. इसके बाद आपको आधार इनेबल्ड डिवाइस पर या स्मार्टफोन पर अंगूठा या अपने
आँखों की पहचान देनी होगी. पहचान मैच होते ही पेमेंट हो जायेगा. फिंगरप्रिंट या आईरिस के जरिये ही पेमेंट होगा. डिजिटल लेन देन में आधार नंबर का सिस्टम शुरू
करने के लिए सरकारी कोशिशे जोरो पर है. आँध्रप्रदेश में आधार नंबर पर राशन बाटने की योजना सफल रही है.
---
Deepak Chaubey

परिवर्तन तो अवश्यम्भावी है ----
-----
इस सर्वेक्षण के अनुसार  :
* आधे से ज्यादा युवा देश में रहना नहीं चाहते क्योंकि उनको अपना भविष्य विदेशों में ज्यादा उज्जवल नज़र आता है।
* आधे से ज्यादा युवा शादी के प्रति प्रतिबद्ध नहीं हैं। इसीलिए शिक्षित वर्ग में शादी की औसत आयु बढ़ती जा रही है।
* आधे से ज्यादा युवा सोचते हैं कि यदि शादी कर भी लें तो पुरानी पीढ़ी की तरह अंत तक चलने वाली नहीं लगती।
* आधे से ज्यादा युवा शादी से पहले यौन सम्बन्ध रखने में कोई बुराई नहीं समझते।
* आधे से ज्यादा युवा लिव इन रिलेशशिप में कोई बुराई नहीं समझते।
* आधे से ज्यादा अपने पार्टनर के प्रति फेथफुल रहना नहीं चाहते हैं।
* जबकि आधे से कुछ ही कम समलैंगिकता को बुरा नहीं समझते।
* आधे से कुछ ही कम अंतर्जातीय विवाह का अनुमोदन करते हैं।
----
डॉ टी एस दराल

वे देेर तक हाथ हिलाते रहे
-----
ट्रेन छूटने के ठीक कुछ सैकंड पहले वह प्लेटफार्म पर पहुँच गया। बहिन उसी की राह देख रही थी। भाई को देखते ही उस की आँखें चमक उठीं। भाई ने कुछ भी कहने के पहले
जेब से नोट निकाले और बहिन को थमाए।
-तो तू इस लिए लेट हो गया? मैं ने तो पहले ही कहा था। मैं कर लूंगी।
-नहीं लेट तो मैं इसलिए हुआ कि कंपनी का काम देर से निपटा। वर्ना नोट तो मैं ने पहले ही कबाड़ लिए थे।
तभी ट्रेन चल दी। बहिन कोच के दरवाजे में खड़ी हाथ हिलाने लगी, और भाई प्लेटफार्म पर खड़े खड़े। दोनों के बीच दूरी बढ़ती रही। दोनों एक दूसरे की आंखों से ओझल
----दिनेशराय द्विवेदी
दिनेशराय द्विवेदी


आज बस इतना ही....
फिर मिलेंगे...
धन्यवाद।








4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    उत्तम संयोजन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्र्स्तुति सुन्दर सूत्रों के साथ कुलदीप जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पांच लिंक्स का आनंद ही कुछ और है |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति। .

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...