पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 21 सितंबर 2015

पर्युषण का पर्व है ,रोज भजो नवकार.... अंक पैंसठ

आसमां टुकड़ो में न बाटों उजाले के लिए,
डूब न जाए कहीं सूरज कई सालों के लिए.
- दुष्यंत कुमार

सादर आभिवादन....

सीधे चलते हैं रचनाओं का ओर.....



हर अदा तेरी
अधिक समीप लाती
तू ही तू नज़र आती
स्वप्नों में सताती |
जुम्बिश अलकों की


गंध-मुग्ध मृगी एक निज में बौराई, 
विकल प्राण-मन अधीर भूली भरमाई . 
कैसी उदंड गंध मंद नहीं होती, 
जगती जो प्यास ,पल भर न चैन लेती . 


प्याज में मात्र
भोजन की सीरत सूरत स्वाद सुगंध
बदलने की कूबत ही नहीं
सत्ता परिवर्तन की भी क्षमता है.
प्याज और सरकार
एक दूसरे के पर्याय हैं.


नाम चरणामृत का लेकर
विष  पिला डाला किसी नें 
जब सुमिरनी  हाथ में ली
तोड़  दी  माला  किसी नें 


पर्यूषण दोहे 
पर्यूषण का पर्व है ,रोज भजो नवकार |
अंतरमन को शुद्ध कर ,होंगे दूर विकार ||

महामंत्र नवकार है ,सुनना सुबह शाम |
सबसे अच्छे पर्व का, पर्यूषण है नाम ||


दो दिनों से तबियत में कुछ नरमी सी है
फिर भी ठीक हूँ...



अपनी आगाज से आज तक..
'जिंदगी' तेरे हीं याद में गुम रही ...
फिर भी जाने क्यूँ ये एहसास है ,
जैसे चाहत मेरी कम रही .....!!

--सोनू अग्रवाल--
आज्ञा दें यशोदा को...
फिर मिलते हैं न...












8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...सुंदर अंदाज के साथ उत्तम हलचल....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    पांच लिंक्स का आनंद बहुत अच्छा लगा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद यशोदा जी |

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वास्थ लाभ हेतु शुभकामनाऐं । सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूरी तरह स्वस्थ न होते हुये भी आपने विश्राम न ले कर रचनायें चुनने का श्रम किया हम उपकृत हैं पर अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें - ये सब काम तो चलते रहेंगे थोड़ी देर ही सही .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर हलचल. मेरी रचना को स्थान देने हेतु धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुप्रभात बहना
    हमेशा स्वस्थ्य रहें
    प्रस्तुति लाजबाब बनाती हैं

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...