पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 18 जुलाई 2017

732....जब अपनों से जंग हो, तो हार जाना चाहिए

सादर अभिवादन..
भाई कुलदीप जी रुद्राभिषेक में व्यस्त हैं आज
पहली बार व्हाट्सएप्प का उपयोग हुआ है
सूचना का आदान प्रदान के लिए...
प्रस्तुत हैं मेरी पसंद जो मैंने आज पढ़ी....

छोटी लहरों पर ही, पड़ते हैं पहरे और
जिन्दगी की ज़ोर - हवा हैं कायम..
पर मेरी फसाने की, मनमानी 
अब भी बाकी है

वधू बिन शादी , शादी बिन प्यार ,
बिन शादी के लिव इन यार। 
जब ऐसा व्यवहार , तो व्यर्थ संस्कार !

मिले जीवन के पथ कितने ही सहारे,
मन के उस जिद्दी से कोने से बस हम हैं हारे,
खाली खाली सा रहता हरदम वो कोना!
वो सूना सा कोना चाहे तेरा ही होना!

करता हूँ अब अंतिम अधिकार समर्पित
याद नही  मैं  अब  उसको  कर  पाऊंगा ।
मर्म  छुपा  लूँगा  दिल  में  सच  कहता  हूँ
अब   मैं  नही   किसी   को   बतलाऊँगा

मझधार की
उछलती  लहरें
बुला रही हैं,
कब तक
सिमटा हुआ
बैठा रहेगा किनारों में।

देखें कब बूंदों के सोंधेपन से
भरेंगे नथुने सरगोशी कराती है
कब रिमझिम सुरों से हर्षोन्माद
जगेंगे धरा बुदबुदाती है ,

इस प्रस्तुति का समापन इन पंक्तियों के साथ
कभी जिन्दगी का 
ये हुनर भी 
आजमाना चाहिए,
जब अपनों से 
जंग हो, तो 
हार जाना चाहिए








12 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात दी,
    सुंदर पठनीय लिंकों का चयन और आपकी सीख भरी पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा रचनाएं
    खूबसूरत संकलन

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर संकलन..
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद।
    लिंक का समापन खूबसूरत सीख के साथ..
    बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात
    आदरणीय, ''यशोदा दीदी''
    सुन्दर प्रस्तुतिकरण, उम्दा लिंक संयोजन
    आपका हृदय से आभार।
    "एकलव्य

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय दीदी शुभप्रभात....
    सुंदर लिंक चयन किया आपने....
    mobile हमेशा साथ रहता है....
    Whatsapp सूचना देने का सबसे उचित व सस्ता माध्यम है....
    मैं प्रस्तुति कंप्यूटर पर ही बनाता हूं....
    इस लिये घर या कार्यालय से दूर होने पर....
    पांच लिंकों का आनंद से...कभी-कभार अवकाश हो जाता है...
    पुनः आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर आज की प्रस्तुति . धन्यवाद पांच लिंकों का आनंद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन सूत्रों से सुसज्जित अंक प्रस्तुत किया है आदरणीय यशोदा बहन जी ने। आभार सादर। सभी चयनित रचनाकारों को बधाई। मेरी रचना :ख़ालीपन से दूर ..... को स्थान देने के लिए आभार।

    प्रस्तुति के समापन पर लिखी गयीं पंक्तियाँ वृहद शिक्षा का भंडार हैं जिन पर ग्रन्थ लिखे जा सकते हैं किन्तु उन्हें आत्मसात करते-करते हम अपना बहुमूल्य समय खो चुके होते हैं और अपनों से बहुत दूर जा चुके होते हैं। चर्चा में देर से शामिल होने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...