पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

बुधवार, 5 जुलाई 2017

719.. नायाब हैं हर इक की...

५ जुलाई २ ० १ ७ 

 ।। जय भास्कर ।। 

नमस्कार एवम् शुभेच्क्षा,

विचारों की अभिव्यक्ति शाब्दिक प्रयोजन से अच्छी
 कुछ नहीं,
जो कही अनकही
 बातों और विचारों की सारगर्भिता
  बयान कर जाती...

ये कला हैं ...
' नायाब है हर इक की अंदाज़- ए- बयान '

तो फिर चलिए..
आज हम सभी इन लिकों के माध्यम से रूबरू होते हैं..
.
आदरणीया 'निर्मला कपिला' द्वारा सुंदर गज़ल..


.

हसरतें दम तोड़ती हैं मुफलिसी के सामने


ये तिरी शान ए करम है ऐ मिरे परवरदिगार"
अब भी हूँ साबित क़दम मुश्किल घड़ी के सामने।


आदरणीया 'रिंकी' द्वारा  रचित 'उमुक्त' ब्लॉग से संवेदनशील विषय..




हमारे देश में कोई कुछ बने या न बने दूल्हा दुल्हन जरूर बनता हैलगता है शादी 
बहुत जरुरी है चाहे परिस्थिति किसी भी तरह की हो शादी से बढ़कर कुछ नहीं, गत दिनों मे कुछ घटनाएँ ऐसी घटी की मैं सोचने पर मजबूर हो गई की क्या उन लडकियों की शादी बहुत जरुरी थी उस समय”?

ब्लॉग 'तीर ए नज़र' की तीखी नज़र हास्य व्यंग्य रचना..



इधर-उधर खाली जगहों पर इतने लोग खड़े थे कि तिल रखने की
 भी जगह नहीं थी । मंच जो विशेष चोरों के लिए बना था, वह भी
 आंशिक रूप से अतिक्रमण का शिकार हो चुका था । यह 
सभी के लिए आश्चर्य का नहीं, बल्कि
 संतोष व गौरव का विषय..


आदरणीया 'शशी पुरवार' द्वारा रचित 'क्रोध बनाम सौंदर्य'..



आज महिला और पुरुष समान रूप से जागरूक है. यही एक
 बात है जिसपर मतभेद नहीं होते है।  कोई आरक्षण नहीं है
कोई द्वन्द नहीं है, हर कोई  अपनी काया को सोने का पानी चढाने
 में लगा हुआ है। ऐसे में साहब कैसे पीछे रह सकते हैं.  हर कोई 
सपने में खुद को  ऐश्वर्या राय और अमिताभ बच्चन के रूप में देखता है।
   साहब इस दौड़ में प्रथम आने के लिए बेक़रार है। बालों  में  बनावटी
 यौवन टपक रहा हैं,

किन्तु बेचारे पेट का क्या करे ? ऐसा लगता है जैसे

 शर्ट फाड़कर बाहर निकलने को तैयार बैठा हो. कुश्ती जोरदार है।
 चेहरेकी लकीरें घिस


आदरणीय 'डॉ जय प्रकाश तिवारी' द्वारा  रचित 'प्रज्ञान विज्ञान' से..



सत्कर्म बिना सभी व्यर्थ।

सत से विलग होते ही यहाँ  
कर्म वही, बन जाता कुकर्म

अन्वीक्षा कर,
बौद्धिक दृष्टि  का रुख जरूर प्रकट करें
संवादों  और  सुझाओं की अपेक्षा।
 'आओ प्रज्जवलित विचारों से रौशन करें '
।। इति शम।।
धन्यवाद।
पम्मी     



15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    सुंदर व पठनीय रचनाओं का चयन
    रिंकी राउत के ब्लॉग की रचना पहली बार
    यहाँ आई है..
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात !

    आज पम्मी जी ने विविध रंगों से परिपूर्ण रचनाओं का संकलन पेश किया है।
    सभी लिंक्स अपनी विशेषता के साथ।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर लिंक संयोजन..।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुप्रभात, सुंदर सूत्रों का संकलन ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर लिंकों का संयोजन , सुंदर प्रस्तुति पम्मी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमेशा की तरह लाजवाब लिंक संयोजन ! बहुत सुंदर आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह आनन्द आ गया । बधाई पम्मी जी को इस उत्कृष्ट प्रस्तुति के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जी, धन्यवाद ..
    आज के इस अंक में आप सभी की उपस्थिति एवम् विचारों के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर प्रस्तुति व अनूठे लिंको से अलंकृत आज का अंक
    आदरणीय पम्मी जी ,शुभकामनायें
    आभार ,"एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  11. अलग अलग रंग छटाओं को लिए खूबसूरत हलचल प्रस्तुति! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...