पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

मंगलवार, 4 जुलाई 2017

718... दिन में एक बार अपने स्वयं से अवश्य बात करे, अन्यथा आप इस संसार में एक उत्कृष्ट और विचित्र व्यक्ति से मिलने का अवसर गवां देंगे।

जय मां हाटेशवरी....
दुनिया भर में भारतीय आध्यात्म का झंडा बुलंद करने वाले 
स्वामी विवेकानंद 31 बीमारियों से पीड़ित थे। 
शायद यही वजह रही कि इस विद्वान का महज 39 साल की उम्र
में आज ही के दिन यानी 4 जुलाई 1902 को  देहावसान हो गया।

जन्म: १२ जनवरी,१८६३ - मृत्यु: ४ जुलाई,१९०२
इनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

उठो, जगो, आगे बढ़ो, पाओ जीवन-साध्य।
तुमने कहा कि राष्ट्र ही, एकमेव आराध्य।।

साँस-साँस में राष्ट्रहित, शब्द-शब्द में ज्ञान।
राष्ट्रवेदिका पर किए, अर्पित तन मन प्राण।।

सत्य और संस्कृति हुए, पाकर तुम्हें महान।
कदम मिलाकर चल पड़े, धर्म और विज्ञान।।

देव संस्कृति का किया, तप-तप कर उत्थान।
करता है दिककाल भी, ॠषि तेरा जयगान।।

अनथक यात्री ने कभी, लिया नहीं विश्राम।
दिशा-दिशा के वक्ष पर, लिखा तुम्हारा नाम।।

रोम-रोम पुलकित हुआ, गाकर दिव्य चरित्र।
जन्म तुम्हें देकर हुई, भारत भूमि पवित्र।।

संत विवेकानंद तुम, शुभ-संस्कृति का कोष।
गुँजा दिया इस सृष्टि में, भारत का जय घोष।।
------राम सनेहीलाल शर्मा 'यायावर'

इन महान आत्मा को नमन करते  हुए....पेश  है आज के पांच लिंक....


शहर सिसकते न हों कहीं...
पिछले बरस इन दिनों मैं अपनी पहली और अब तक की इकलौती विदेश यात्रा पर थी. स्कॉटलैंड के खूबसूरत पहाड़ों को देखते हुए पहला ख्याल अपने उत्तराखंड के पहाड़ों का आया था कि कहीं से कम खूबसूरत तो नहीं हैं हमारे देश के पहाड़, यहाँ के मौसम बस कि हम उनका ख्याल रख पाने में बुरी तरह से चूक जाते हैं. हमने अपने खूबसूरत शहरों को रौंद कर रख दिया है. हमने फेसबुक पर अपडेट करने के लिए या दोस्तों पर रौब झाड़ने के लिए पर्यटन के नाम पर शहरों की ओर दौड़ लगाना तो सीख लिया, तस्वीरें खींचकर अपलोड करना तो सीख लिया लेकिन शहरों से पेश आने का सलीका नहीं सीखा.

प्रवंचना
जलते दिए की
रोशनी तो देखी
पर लौ की जलन
न जानी !
फूलों की खुशबू
तो जानी
पर काँटों की चुभन
न जानी !

गजल
छीन कर सारी मशालें पी गया वो रोशनी
फ़क्त देता है दिलासा, बस सहर होने को है |
अब हकीकत को समझने लग गए हैं सब यहाँ
मुफलिसों की आह का शायद असर होने को है |

यादें नई पुरानी
सभी अभिनेता,अभिनेत्रियों के एक नहीं कई चेहरे होते हैं,पर्दे पर कुछ और तो वास्तविक जीवन में कुछ और.शायद व्यावसायिकता का तकाजा हो या दर्शकों में अपनी छवि बनाए रखने कि जुगत.इसी को दाग फिल्म में बड़ी खूबसूरती से शब्दों में पिरोया गया था...
जब भी चाहे नई दुनियां बसा लेते हैं लोग
एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं लोग
दूरदर्शन पर कई बरस पहले एक धारावाहिक इसी कंसेप्ट पर आया था ‘चेहरे पर चेहरा’ जिसमें बांग्ला के प्रसिद्ध अभिनेता अनिल चटर्जी प्रमुख भूमिका में थे. मानव जीवन की विसंगति ही है किहर जगह हमें अलग-अलग चेहरों की जरूरत पड़ती है.

लेखन क्वालिटी
मेरे ब्लॉग पर आने वाले कमेंट में 80 प्रतिशत की गिरावट आयी मगर मेरा लेखन इस कारण कभी कम न हुआ , ब्लॉग लेखन का उद्देश्य मेरे लेखन का संकलन मात्र रहा था मेरा विश्वास था कि मैं देर सवेर लोग पढ़ेंगे जरूर , इसमे बनावट से लोगों को प्रभावित करने की चेष्टा रंचमात्र भी नहीं थी ! मेरा अभी भी दृढ विश्वास है कि गूगल के दिए इस मुफ्त प्लेटफॉर्म से बेहतर और कोई प्लेटफॉर्म नहीं है जहाँ लोग अपनी रचनाये सदा के लिए सुरक्षित रख सकते हैं !
सो ब्लॉगर साथियों से अनुरोध है कि वे दिल से लिखें और क्वालिटी कंटेंट लिखें ताकि आज न सही कल आने वाली पीढ़ी उनकी अभिव्यक्ति समझे और पुरानी पीढ़ी को अपने साथ महसूस कर सके !

मुस्कान’.....डॉ० छेदी साह
देखती हो जब तुम
और होती आँखें चार
तब तुम्हारी मीठी मुस्कान
मुझे लगती है
बड़ी ही कान्तिमान,
आज बस इतना ही....

• जीवन का रहस्य केवल आनंद ही नहीं है, बल्कि अनुभव के माध्यम से सीखना भी है।
• जीवन में, जिस शिक्षा से हम अपना निर्माण कर सकतें है, मनुष्य बन सकतें हैं, चरित्र गठन कर सकतें हैं, और विचारों का सामंजस्य कर सकतें हैंI वही वास्तव में शिक्षा कहने के योग्य है।  
• पूरे संसार की शक्तियां पहले से ही हमारी है। वे हम ही है, जो अपनी आँखों पर हाथ रखें रहतें है और फिर रोते रहतें है कि कितना अंधेरा है।
• दिन में एक बार अपने स्वयं से अवश्य बात करे, अन्यथा आप इस संसार में एक उत्कृष्ट और विचित्र व्यक्ति से मिलने का अवसर गवां देंगे।
• जीवन के तीन अनमोल कथन- 
 जो आपकी सहायता करता है उसे जीवन में कभी न भूलें।
 जो आपको प्यार करता  है उससे नफरत कभी न करें।
 जो आप पर विश्वास करता है उसे कभी धोखा न दें।


------स्वामी विवेकानंद 














11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात !
    युवाओं के प्रेरणास्त्रोत स्वामी विवेकानंद जी की पुण्यतिथि पर हमारी विनम्र श्रद्धांजलि।
    आज का विशेषांक कुलदीप जी ने सुन्दर ढंग से सजाया है। उम्दा लिंकों का संकलन। सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात..
    सुन्दर रचनाएँ
    भाव-भीनी श्रद्धांजली
    देव पुरुष स्वामी जी को
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति कुलदीप जी.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाहः
    बहुत ही उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभ प्रभात ,आदरणीय कुलदीप जी
    सर्वप्रथम इस भारत के सपूत ''स्वामी विवेकानन्द'' की पुण्यतिथि पर इस विलक्षण प्रतिभा वाले युगपुरुष को नमन।

    ओज था ,मष्तक पे तेरे
    भावनायें हृदय में आग थीं
    चमत्कृत जिह्वा शब्द बैठा
    जग सारा ,स्तब्ध था

    सत्य कहा ,व्यक्ति का श्रेष्ठ मूल्यांकनकर्ता वह स्वयं है ,
    अच्छा अंक ,सुन्दर लिंक समायोजन
    आभार।
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  6. सर्वप्रथम प्रेरक व्यक्तिव स्वामी विवेकानंद जी को विनम्र श्रद्धांजलि।
    सुंदर लिंको का संयोजन आदरणीय।

    उत्तर देंहटाएं
  7. युवाओं के प्रेरणास्त्रोत स्वामी विवेकानंद जी को विनम्र श्रद्धांजलि.. आज की प्रस्तुति बहुत अच्छी।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. युगपुरुष विवेकानन्द जी की पुण्यतिथि पर उन्हें सादर नमन!
    बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...