पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 3 जुलाई 2017

717.. #हिन्दी_ब्लॉगिंग ...पाठकों की पसंद.... आज के पाठिका हैं श्वेता सिन्हा

सादर अभिवादन
आज ऊट-पटांग दिन पाठकों की पसंद...?
पर मौके का फायदा हर कोई उठा ले 
ये सहज नहीं है....भाई ध्रुव सिंह ने 
सूचना दी है कि वे आज नहीं रहेंगे...
मैंनें आज का दिन इस अंक के लिए चुन लिया
और ये रही उनकी पसंदीदा रचनाएँ

एक पागल भी मोहब्बत में सोचता होगा 
मेरे महबूब के ज़ुल्फों में अदाएँ होंगी

अब उस पार ही हम सब का फैसला होगा 
जैसा  किरदार है वैसी ही सज़ाएँ होंगी

मृत हुई जो तेरी इच्छा 
प्राण फूँकता, नवल हूँ 
भरता हूँ,चेतना की लहरें 
प्रेरणा एक, सबल हूँ
हाँ, मैं मन हूँ....... 

उस डाली खग ढूंढे बसेरा,
चैन जहाँ पर हो जरा सा,
छाँव प्रीत का तो मिलता हर डाली पर!
रैन बसेरा तो रमता, इस डाली भी! उस डाली भी!


नुमाइश करिए.....मीना शर्मा
यहाँ गुनाहे - मोहब्बत की सजा उम्रकैद है,
दूर रहने की इस गुनाह से कोशिश करिए ।

जिंदगी की अदालत फैसले बदलती नहीं,
अब कहीं और रिहाई की गुजारिश करिए।।


मन पाए विश्राम जहाँ.....अनीता
वरदानों को शाप मानकर
रहा खोजता द्वार सुखों का,
राह ताकता भटका राही
प्रियतम उर से कहीं निकट था !

चलते-चलते...तीन रचनाएँ और....


अगर भीग जाने की चाहत नहीं है....नीरज गोस्वामी
नहीं है अरे ये बग़ावत नहीं है 
मुझे सर झुकाने की आदत नहीं है 

छुपाये हुए हैं वही लोग खंजर 
जो कहते किसी से अदावत नहीं है 



कैसे कह दूं ... दिगम्बर नासवा
सुलगते ख्वाब...कुनमुनाती धूप में लहराता आँचल ...तल की गहराइयों में हिलोरें लेती प्रेम की सरगम...सतरंगी मौसम के साथ साँसों में घुलती मोंगरे की गंध...क्या यही सब प्रेम के गहरे रिश्ते की पहचान है ...या इनसे भी कुछ इतर ...कोई जंगली गुलाब ...

चिट्ठों की दुनियाँ ... डॉ. सुशील जोशी

‘उलूक’ 
अपनी 
लिखी 
किताब 
खुद पढ़ना 
यहाँ के 
अलावा 
कहीं 
और नहीं
सिखाया 
जाता है ।




:: पाठिका परिचय ::
आज के पाठिका हैं श्वेता सिन्हा और उन्हीं की कलम कह रही है..
मैं, श्वेता सिन्हा ,
लिखना मेरे लिए ईश्वर की साधना जैसा है। मैं प्रकृति प्रेमी  बेहद संवेदनशील और  मननशील हूँ 
"कुछ कही अनकही बातें मन के समन्दर में लहरें बन भावनाओं को उद्वेलित करती रहती है, भावों को मथने से जो मोती निकले उन्हें शब्द देकर रचनाओं के माध्यम से गूँथने का प्रयास किया है मैंने"  

जन्म मिला मानव तन का ,
इसे व्यर्थ न तुम होने देना ,
प्रज्जवलित कर्म के दीप करो,
रौशन हो जाए जीवन की राह,
जग मेले में नाम न खोने देना। 

सादर.....
#हिन्दी_ब्लॉगिंग








20 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात श्वेता बहन
    आभार....आपने मेरे आग्रह का मान रखा
    पर रचनाएँ जानदार चुनी आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार शुक्रिया आपका दी, आपने जो सम्मान दिया और जो मार्गदर्शन किया बहुत खास है मेरे लिए सदैव हृदय से आभारी रहेगे आपके।
      शुभ प्रभात
      मंगलमय शुभदिवस दी।
      सादर

      हटाएं
  2. आज सुंदर प्रस्तुति हेतु श्वेता जी को हार्दिक बधाई। मेरी रचना "बेचैन खग" का चयन देखकर मैं विमुग्ध और आभारी हूँ। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारे प्रिय चर्चाकार श्री ध्रुव सिंह जी का जन्म दिन है
    मैं उन्हें शुभकामनाएँ प्रेषित करती हूँ इन पंक्तियों के साथ....
    उत्तर से उन्नति,
    दक्षिण से दायित्व ,
    पूर्व से प्रतिष्ठा,
    पश्चिम से प्रारब्ध,
    नैऋत्य से नैतिकता,
    वावव्य से वैभव,
    ईशान से ऐश्वर्य,
    आकाश से आमदनी,
    पाताल से पूंजी,
    दसों दिशाओ से
    शान्ति, सुख समृद्धि,
    और सफलता प्राप्त हो
    आपको आपके जन्म दिवस पर शुभकामनाएँ!
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ध्रुव जी को ढेरों शुभकामनाएं उनके जन्मदिवस पर। सब की समझ में सब आ जाये ये जरूरी नहीं और ऐसे में 'उलूक उवाच' को तव्वजो देने वाली यशोदा जी और श्वेता जी का दिल से आभार आज की पाँच लिंकों की हलचल की सुन्दर प्रस्तुति में उसके सूत्र पर नजरे इनायत करने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर व विविधता से पूर्ण हलचल के इस अंक के लिए बहुत बहुत बधाई ! आभार मुझे भी इसका हिस्सा बनाने के लिए..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर लिंक संयोजन एवं प्रस्तुति श्वेता जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ध्रुव जी को जन्मदिन की शुभकामनाएँ..
    लिकों की प्रस्तुति बहुत सुंदर..
    श्वेता जी को हार्दिक बधाई।
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत लिंक संयोजन से समां बांध दिया आपने आदरणीया । बहुत सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वेता जी, बहुत ही सुंदर लिंक संयोजन किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  11. great collection

    mere blog per ayenge to aapka abhaar hoga...
    http://swayheart.blogspot.in/2017/07/blog-post.html

    shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाई ध्रुव सिंह जी को जन्म दिवस की ढेरों मंगलकामनाऐं।
    माँ सरस्वती उनकी लेखनी को अपना आशीर्वाद दें।
    श्वेता जी की पसंद का अंक सुन्दर रचनाओं का गुलदस्ता है।
    आगे भी उनके सहयोग और सक्रियता के हम आकांक्षी हैं।
    आदरणीय यशोदा बहन जी की भाई ध्रुव जी को शुभकामनाऐं अपने अंदाज़ में निराली हैं।
    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।
    सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ब्लागिंग के ठहरे पानी में जो लहर उठी है वह मौज बन जाए, यही कामना है

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय ध्रुव जी को उनके जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ । सदा स्वस्थ्य एवं प्रसन्न रहे और अपनी लेखनी के ओज से यश पाते रहे।

    आप सभी साहित्य सुधी जनों का हार्दिक आभार बहुत बहुत धन्यवाद आज के इस अंक में आपकी सम्मानीय उपस्थित के लिए। आप सभी का सहयोग सदैव अपेक्षित है।
    हृदय से धन्यवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत भावभीनी हलचल ... ध्रुव जी को जनन दिन की हार्दिक बधाई ढेरों शुभकामनाएँ ... आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर संकलन । श्वेताजी को बहुत बहुत धन्यवाद। सभी रचनाकारों को बधाई और ध्रुव जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ । ध्रुव जी आप इसी तरह दिन प्रतिदिन और अच्छा लिखें,जीवन के हर क्षेत्र में अग्रसर हों यही दुआ करती हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ध्रुव जी को उनके जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ एवं बधाई। इस अंक के सुंदर संकलन के लिए श्वेता जी को बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...