पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 24 जून 2017

708 ... मानसून



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


तेज़ रफ्तार से
यादें संग होते हैं 




मैं देखता हूँ कि रेडियो, टेलीविज़न और फेसबुक पे 
लाशों ने टहलना शुरू कर दिया है | लोगों ने बेचना शुरू कर दिया है 
लाशों की जलावन, कुछ दफ्तरों में बैठे लोगों ने 
ख़रीद कर जलाना शुरू कर दिया है और नेताओं ने 
पकाना शुरू कर दिया है रोटी | अब बंटेगी रोटियाँ .
 मेरे सामने भी पड़ी है, क्या उठा लूँ  . . . . . 
खा लूँ  . . .नहीं  . . . .  हाँ  . .  . नहींहींहीं





‘खुषबू मेरे देष की’ मई 2017 (बरेली) के लघुकथा विषेषांक अंक
,वर्ष-5 में पृष्ट- 13 पर प्रकाशित
मेरी एक लघुकथा
आपकी नज़र कर रहा हूँ-






कोई ऐसी रात नहीं गुज़रती जिसमें तेरा सपना ना हो
कोई दिन नहीं गुज़रता जब तेरा एहसास अपना ना हो
इस मुस्कान के पीछे ज़ख्म जो अभी हरे से हैं
सुर्ख रखने को खुद को मेरा लहू पी रहे हैं
मरते दम तक तेरी राहों में पलकें बिछाए






जब चन्द्रमा अपनी रश्मियाँ बिखेर रहा होगा ।
जब जुगनु टिमटिमा रहे होंगे ।
जब रात का धुंधलका छाया होगा ;
जब दूर सन्नाटे में किसी के रोने की आवाज़ होगी ;
या कहीं पास पायल की झंकार  होगी ?
या चूड़ियों की कसमसाहट ?





लिखना सीखना शुरू की थी तब
आया तो अब तक नहीं
पाठक रहना ज्यादा आसान है

><><

फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव





10 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर पठनीय लिंकों का चयन,बहुत सुंदर रचनाएँ पढ़ने मिली।धन्यवाद विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात....
    सुंदर पठनीय लिंकों का चयन
    लिखना सीखना शुरू की थी तब
    आया तो नहीं अब तक
    ज्यादा आसान है पाठक रहना
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर सूत्रों के साथ बढ़िया प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात....
    सुंदर....
    आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभ प्रभात । बेहद खूबसूरत रचनाओं का संकलन है आज का अंक। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर लिंक संयोजन....

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय, विभा जी, प्रणाम
    आज का अंक अच्छा लगा ,
    सुन्दर लिंको का चयन
    आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन किया है आपने आज के लिए।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...