पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 19 जून 2017

703..."मशालें जलती रहेंगी" .....


पिछले सप्ताह हमारे ब्लॉग  
"पाँच लिंकों का आनंद" 
परिवार के सभी आदरणीय सदस्य व पाठकगणों ने 
'देश की रीढ़' 
कहे जाने वाले हमारे आदरणीय अन्नदाता 
'किसान' 
के मूलभूत आवश्यकताओं एवं उनकी समस्याओं पर गहरा विमर्श किया, जिसमें हमारे गणमान्य पाठकों और उनकी मूल्यवान टिप्पणियों का अतुलनीय सहयोग रहा। चर्चा का विषय 'किसान' हो या कुर्सी पर बैठे 'माननीय' हमारे विमर्श का उन पर प्रत्यक्षरूप से तो नहीं 
परोक्षरूप से अवश्य ही एक सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। 
हम हमारे राष्ट्र की प्रगति में  अपनी लेखनी कौशल से 
एक नया 'इतिहास' लिखने को आतुर हैं 
एवं इसमें आप सभी प्रबुद्धजनों का अमूल्य सहयोग अपेक्षित है, 
इन्हीं कभी न अंत होने वाले विचारों के साथ मैं अपने 'परिवार' का सबसे छोटा सदस्य आपको आज के 'अंक' की ओर ले चलता हूँ 
हार्दिक अभिवादन।


आज के अंक का आगाज़ इस 'लेखनी के जादूगर' की  
एक सुन्दर 'कृति' के साथ करता हूँ 
आदरणीय, ''रवींद्र सिंह यादव'' जी   

ख़ामोशियों  के साये में
दिल शोलों में जलता है
ज़ुबाँ  पत्थर की होती है
एहसास  गुज़रें  कहाँ से
रास्ते के पत्थर भारी हो चले हैं।

आज का माहौल जो हमने तैयार किया है  अपने स्वार्थपरक कर्मों से इसका परिणाम निश्चित तौर पर विध्वंसक ही होगा,जिसके भुक्तभोगी हम स्वयं भी होंगे इन्हीं सत्यपरक विचारों से हमारा साक्षात्कार कराती 
आदरणीय,''साधना वैद'' जी की कृति 


  वाणी में ज़हर उतर आया है ,
आँखों में नफ़रत है और 
हृदय में बदले की आग 
इतनी तीव्रता से धधक उठी है कि
                             प्रतिघात करने में                              


कहते हैं यदि आपके जीवन में एक सच्चा मार्गदर्शक है तो उससे बड़ा गुरु कोई और नहीं एवं जिसने यह अमूल्य गुरुनिधि  पा ली उसको किसी और निधि की आवश्यकता नहीं ,इन्हीं कोमल भावनाओं के साथ हमारे आदरणीय,राकेश जी ''राही'' की उनके परम 'श्रद्धेय' गुरु को समर्पित उनकी एक कृति 


 ना था होश में, जो ख्वाहिश मैं करूँ,  
तेरा जलाल देख, मदहोश हो गया।

   
सत्य ही है हमें दूसरों के सुख-दुःख का एहसास तभी हो सकता है जब हम दूसरे के स्थान पर स्वयं को रखकर सोचें ! इन विचारों को नई उड़ान देती 
आदरणीय, ''पम्मी सिंह" जी की 
'सक्षम कृति' 

  आराम कुर्सी पर
फितूर सोच, 
नींद से बोझिल पलकें...
जो खुली 'संजू' की आवाज़ ..
"बीसन जूता मरबै और एक गिनबै"

इस अंक के अंतिम चरण में 
आदरणीय,"आशा सक्सेना" जी की मीठी यादें
  जिसे इन्होंने अपने शब्दों में पिरोया है  


म्याऊं म्याऊं करती 
अपनी ओर 
आकृष्ट करती
चूहों का लगता अकाल 
या शिकार न कर पाती


अंत में "मेरी भावनायें" 
मशालें जलती रहेंगी 
अंधेरा जाता रहेगा 
कुछ कुचलेंगे हमको  
मौक़ापरस्त,हस्ती दिखाकर 
लेखनी चलती रहेगी 
हक़ पाने को आतुर 
हम ना झुकेंगे ! उनके दिखावे 
चोंचलों से
लिखते रहेंगे,स्याही ना बची तो 
'रक्त' से 
देश की 'प्रगति' के आने तक !


आपकी प्रतीक्षा में 
आभार 

      

12 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    बहुत ही अच्छा चयन
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचनाओं के साथ विशेष टिप्पणी लिंकों को प्रस्तुत करने का सुंदर ढंग और बहुत सुंंदर विविधतापूर्ण रचनाओं का चयन।
    हार्दिक शूभकामनाएँ आपको आदरणीय ध्रुव जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात!
    सुन्दर ढंग से संजोया है लिंक्स को ध्रुव जी ने। मेरी रचना को मान देने के लिए हार्दिक आभार। आरम्भ से अंत तक रोचक ...उत्तम .... सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. विचार पूर्ण मन में ही नव-शब्द उदित होते हैं
    ...लाजवाब अभिव्यक्ति।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद।
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ,आज का *पाँच लिंको का आनन्द *
    बेहतरीन संयोजन ,क़लम की ताक़त की आवाज ,
    बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर हलचल प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर सार्थक सूत्र आज की हलचल में ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार एकलव्य जी ! आशा दीदी की ओर से भी आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ! वे इन दिनों कुछ अस्वस्थ है इसलिए नेट से दूर हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  8. नए कलेवर और नूतन विचार से सजी है ध्रुव जी की ये पोस्ट। इस पोस्ट में सम्मलित सभी रचनाओं के रचनाकार को हार्दिक शुभकामनाएँ एवं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. निखर रहा है दिन-ब-दिन पाँच लिंकों का आनन्द।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति एवं उम्दा लिंक संयोजन....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद प्रभावी और सुंदरता से सभी लिंक संजोय हैं
    बढ़िया संयोजन के लिए साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...