पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 17 जून 2017

701... सुख-दुःख



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

क्यों मच जाता हाय-तौबा
जबकि


जेब्रा क्रोसिंग -
आवाजाही मौसम


फिर दुख से यूँ घबराना क्या ?
सुख- दुख में भेद  बनाना क्या ?
जीवन है तो सुख -दुख भी हैं,
ख्वाबों मे सुख यूँ सजाना क्या ?


सुख-दुःख


सूरज रहा चूम
सागर का आंचल
रंग सिंदूरी चमक रहा
आसमां भरा गुलाल



सुख-दुःख


ये पल दो पल की रिश्तेदारी नहीं,
ये तो फ़र्ज है उम्र भर निभाने का,
जिन्दगी में आकर कभी ना वापस जाने का,
ना जानें क्यों एक अजीब सी डोर में बन्ध जाने का,


सुख-दुःख


दुख हममें धैर्य , संयम , सहनशीलता और सरलता की भावना बढ़ाता है
जबकि सुख कहीं न कहीं हमें अहंकारी , लालची व उच्छृंखल बनाता है ।
 दुख हमें वैराग्य अनुभव कराता है । दुख हमें जो अनुभव करा सकता है
 वह सुख कभी नहीं करा सकता । तो क्या दुख , सुख से ज्यादा अच्छा है ?


निर्माण


 नाश के दुख से कभी
दबता नहीं निर्माण का सुख
प्रलय की निस्तब्धता से
सृष्टि का नव गान फिर-फिर!

><><

मिलेंगे जल्द

विभा रानी श्रीवास्तव




9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    आना-जाना
    धूप-छाँव
    सुख-दुख
    जीना-मरना
    खाना-पीना
    ...
    उत्तम प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात,

    रात के उत्पात-भय से, भीत जन-जन, भीत कण-कण
    किंतु प्राची से उषा की, मोहिनी मुस्कान फिर-फिर!

    नीड़ का निर्माण फिर-फिर,नेह का आह्णान फिर-फिर!

    हरिवंश राय बच्चन की इस कालजयी रचना को पुनं हलचल लिंक में पढ मन प्रसन्न हो गया।

    विभा रानी श्रीवास्तव जी को धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर अन्दाज में प्रस्तुति विभा जी की हमेशा की तरह।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात आदरणीय, ''विभा जी''
    आज का अंक जीवन के सत्य से
    साक्षातकार करा रही है
    श्रेष्ठ रचनायें ,उत्तम प्रस्तुति
    शुभकामनायें ,आभार।
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  5. सारगर्भित लिंक..
    बहुत बढियाँ।
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सर्वोतम लिंक...आदरणीय आंटी जी....
    शनीवार के दिन आप की प्रस्तुत चर्चा की हम सब को आदत पड़ गयी है....
    सादर नमन....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुख दुख पर आधारित विमर्श के लिए उत्तम प्रस्तुति। आदरणीय दीदी का संकलन विचारणीय विषयों को पेश करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर लिंक संयोजन.....
    मेरी रचना "सुख-दुख"को यहाँ स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार एवं धन्यवाद ....आदरणीय विभा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  9. अद्भुतलाइफ का लेखांश यहाँ प्रस्तुत करने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...