पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 11 जून 2017

695....पाठकों की पसंद.... आज के पाठक हैं श्री पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा

सादर अभिवादन
आज इस श्रृंखला में प्रस्तुत है 
श्री पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा की पसंद की रचनाएँ...

पढ़िए और पढ़ाइए....

यह खुलापन
यह हँसी का छोर
मन को बाँधता है 
सामने फैला नदी का छोर 
मन को बाँधता है 


भ्रमण-पथ लंबा अकेला
लिपटकर कदमों से बोला 
तेज़ कर लो चाल अपनी 
प्राणवायु का है रेला 
हर दिशा संगीतमय है
मूक सृष्टि 
के इशारे


पीर की गहराई में
दिल की तन्हाई में
ढूँढते खुद को
खुद की परछाई में
'वो' कुछ बोल पड़ा है
हाँ, 'वो' जो सोया पड़ा था


हृदय तड़पा
वेदना के वेग से
ये हृदय तड़पा
अश्रु टपका
रेत में
फिर अश्रु टपका


मीलों तक फैले निर्जन वन में
पलाश के गंधहीन फूल
मन के आँगन में सजाये,
भरती आँचल में हरसिंगार,
अपने साँसों की बातें सुनती

घोर आश्चर्य...
श्री सिन्हा जी की पसंद बहुत ही निराली है पर...
उनके अपने ब्लॉग की कोई रचना नहीं..

:: पाठक परिचय ::
मेरा परिचय अति साधारण है।  
12 अगस्त 1968 को माता श्रीमति ऊषा सिन्हा 
एवं पिता स्व.रत्नेश्वर प्रसाद के आंगन मेरा जन्म हुआ 
तथा बचपन से ही अपनी बड़ी माँ श्रीमति सुलोचना वर्मा, 
जो स्वयं हिन्दी की कुशल शिक्षिका एवं सक्षम कवयित्री है, 
के सानिध्य में पलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ फलतः हिन्दी लेखन का शौक एक आकार लेता गया। 1987-1990 में कृषि स्नातक तथा 1992 से इलाहाबाद बैंक में अधिकारी के रूप में कार्य करते हुए, वर्तमान में मुख्य प्रबंधक,  व्यस्तता के कारण लेखनी को आगे नहीं ले जा पाया। अभी कोशिश जारी है। अब तक लगभग अपनी 700 रचनाओं के साथ आपके समक्ष प्रस्तुत हूँ तथा जल्द ही अपनी कविताओं की श्रृंखला प्रकाशित कराने की योजना है। 
सादर।।।।
पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा

हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि भविष्य में भी
इनकी पसंदीदा रचनाएं पढ़ने को मिलेगी
दिग्विजय 






19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर लिंकों का चयन P.k जी बहुत आभारी है आपके हृदय से आपने मेरी रचना भी पसंद की बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

    इस रचना को पढ़ने के लिए कृपया इस लिंक का प्रयोग करें,http://swetamannkepaankhi.blogspot.in/2017/04/blog-post_26.html?m=1

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    आभार भाई पुरुषोत्तम जी
    अच्छी रचनाए चुनी आपने
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात सुंदर संकलन आभार आदरणीय आपका अपनी पसंद की रचनाएं इस मंच पर भेजने के लिए पुनः आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. पुरुषोत्तम जी ने आज का अंक प्रस्तुत कर भावात्मक रचनाओं को प्रमुखता दी है। सुंदर लिंक्स के चयन के लिए आपको बधाई एवं आभार। ऊपर की दो रचनाएं शायद किसी तकनीकी त्रुटि के कारण खुल नहीं पा रही हैं जोकि 404 Error दिखा रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दिग्विजय जी ने तकनीकी त्रुटि दुरुस्त कर दी है। सादर आभार।

      हटाएं
    2. आभार।।।।। रवीन्द्र जी।

      हटाएं
  5. शुभप्रभात
    आदरणीय दिग्विजय जी
    एक रचनाशील पाठक व लेखक का
    चयन। श्री पुरुषोत्तम जी की रचनायें
    उन्हीं की भाँति उत्तम एवं संवेदनशील हैं
    आप सभी पाठकों और लेखकों को
    हमारे पाँच लिंकों का आनंद परिवार
    की ओर से हार्दिक
    शुभकामनायें।
    आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  6. हलचल और इससे जुड़े तमाम सदस्यों का हार्दिक शुक्रिया। विशेषकर यशोदा दी एवं दिग्विजय्जी जिन्होने मुझे मार्गदर्शन व प्रेरणा दी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति पुरुषोत्तम जी द्वारा

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...