पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

शनिवार, 10 जून 2017

694 .... खून




सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष


खून नहीं पानी है
वृद्धाश्रम में जिंदगानी है


खून को क्या हो गया है

देखने को जब यहाँ कुछ भी नहीं है तो चलो
खिलखिलाती थीं कभी उन खिड़कियों को देख लें

अब कहाँ वो सुरमई आखें वो चेहरे संदली
वक़्त बूढ़ा हो चला है झुर्रियों को देख लें


खूनी हस्ताक्षर

उस दिन लोगों ने सही सही,
खूं  की कीमत पहचानी थी।
जिस दिन सुभाष ने बर्मा में,
मांगी उनसे कुर्बानी थी।


प्रेम

मगर आँख कोई नहीं खोल पाता।
कलेजा किसी का नहीं चोट खाता।
किसी का नहीं जी तड़पता दिखाता।
लहू आँख से है किसी के न आता।
चमक खो, बिखर है रहा हित-सिता 


नहीं होने से थोड़ा होना क्या सही है?

फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव

8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    खून .... कुछ लाइने

    मयखाने से
    पूछा आज इतना
    सन्नाटा क्यों है..??
    उसने कहा..
    साहब,
    लहू का दौर है,
    शराब कौन पीता है..!!
    .....अच्छी प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. इंद्रधनुष पर देर से नजर पड़ी :)
    बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय दीदी को सादर प्रणाम। खून में एक तरह का संगीत है जो हमें अनेक प्रकार के एहसासों की यात्रा करता है कभी खून उबल पड़ता है क्रांति के गीत सुनकर तो कभी खून प्रेम का सागर बन जाता है जिसमें हिलोरें लेती हैं अगणित भावनाएं। विचारणीय रचनाओं का संकलन।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा लिंक...
    सुन्दर संकलन

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...