पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 18 मई 2017

671....पाठकों की पसंद....आज के पाठक हैं श्री रवीन्द्र सिंह जी यादव

सादर अभिवादन
अज़हद ख़ुशी हो रही है..
आज पाठकों की पसंद का तीसरा अंक
अब वो दिन दूर नहीं..
जब हमारे सम्माननीय पाठकगण
स्वयं यहां आकर लिंक संयोजित करेंगे...

खलबली मची है
गिरोहों गिरोहों
बात कहीं भी
नहीं हो रही है
किसी के भी
सरदार की

जागना होता है पूरी रात
सपनों के टूटने के डर से नहीं
इस डर से ...
की छीन न लिए जाएँ सपने आँखों

जिद्दी बच्चे सी मचल हवा,
पैरों से धूल उड़ाती है,
तरुओं के तृषित शरीरों से,
लिपटी बेलें अकुलाती हैं,
जब वारिद की विरहाग्नि में,
धरती का तन मन जलता है...
तब गुलमोहर खिलता है !!!

बेटी   ख़ुद   को  कोसती   है,
विद्रोह   का  सोचती    है ,
पुरुष-सत्ता  से  संचालित  संवेदनाविहीन  समाज  की ,
विसंगतियों  के   मकड़जाल  से   हारकर ,
अब  न लिखेगी   बेटी -
"अगले  जनम  मोहे   बिटिया  न  कीजो  ,
मोहे    किसी    कुपात्र     को   न  दीजो  "।

सीमेंट-सरिया   के   जंगल   से   दूर
उस  बस्ती  में   बरसना   चाहता  हूँ    मैं
जहाँ.......
जल  की  आस  में
दीनू   का  खेत  सूखा  है
रोटी   के   इंतज़ार   में
नन्हीं   मुनिया    का  पेट   भूखा   है।

:: पाठक परिचय ::
अपनी-परायी व्यथा हो या सुखद अहसास इन्हें शब्द-चयन की प्रतीक्षा,भाव और विचार व्यापक दृष्टिकोण में ढालते हैं. अनुभूति का आंतरिक स्पर्श लोकदृष्टि का सर्जक है जो मानव मन को प्रभावित करता है और हमें संवेदना के शिखर की ओर ले जाता है. 
ज़माने की रफ़्तार के साथ ताल-सुर मिलाने का एक प्रयास 
अपनी यात्रा आरंभ करता है
रवीन्द्र सिंह यादव 
संपर्क: rsyadav.dilauli@gmail.com
............
अगले पाठक की प्रतीक्षा में
पाँच लिंकों का आनन्द परिवार








26 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    हम भाई रवीन्द्र सिंह जी के आभारी हैं
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा में देर से शामिल होने के लिए क्षमा चाहता हूँ। आपका हार्दिक आभार "पाँच लिंकों का आनंद " में पाठकों की पसंद का तीसरा अंक मेरे नाम करने के लिए। रचनाकारों को नई स्फूर्ति और सृजन को विस्तार मिले ऐसे प्रयासों से ऐसी उम्मीद करता हूँ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आपका स्नेह और आशीर्वाद यों ही मिलता रहे। हार्दिक आभार।

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर links का संयोजन ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रोचक संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय 'यशोदा दीदी' नवीन लेखकों को एक सार्थक मंच प्रदान करने के लिए आपको हृदय से नमन करता हूँ शुभकामनाओं सहित ,आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी शुभकमनाओं और सहयोग के लिए आभारी हूँ एकलव्य जी। अपेक्षित सहभागता बनाये रखियेगा।

      हटाएं
  6. आदरणीय, रवींद्र जी शुभकामनाओं सहित ,आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छा लगा आज के लिंक पढ़कर। रवीन्द्र सिंह यादव जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बार -बार पढ़ने पर नए - नए अर्थ समझाती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सर्वप्रथम आभार आदरणीय यशोदा जी का, जिनका यह सुंदर प्रयास नए लेखकों को सार्थक मंच तो देता ही है,उनका मनोबल भी बढ़ाता है । रवींद्र यादव जी की भी आभारी हूँ कि उन्होंने गुलमोहर को पाँच लिंको में पहुँचाया । सभी रचनाएँ सुंदर व सार्थक हैं । आज वाचन के लिए अथाह सामग्री उपलब्ध है ब्लॉग जगत में । मैं वाचन की बेहद शौकीन हूँ और पाँच लिंकों की रचनाएँ लगभग रोज पढ़ती हूँ । पुनः एक बार सादर धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी और पाँच लिंकों का आनंद की ओर से आपका हार्दिक आभार चर्चा में सारगर्भित टिप्पणी जोड़ने के लिए।

      हटाएं
  10. सभी रचनाएँ उत्कृष्ट हैं। बधाई रवीन्द्र सिंह यादव जी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छा अंक है आज का जिसमें सभी विचारणीय मुद्दे कविताओं में समाये हैं। बधाई हो रविन्द्र सिंह यादव जी। साइट संचालक यशोदा जी का धन्यवाद ऐसे सफल सुन्दर संयोजन के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी और पाँच लिंकों का आनंद की ओर से आपका हार्दिक विरेश जी आभार चर्चा में शामिल होने के लिए।

      हटाएं
  12. उत्तर
    1. सादर प्रणाम सर ! आपकी टिप्पणी से आज का अंक मेरे लिए विशिष्ट हुआ। हार्दिक आभार।

      हटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...